VVS Laxman points out three areas that India must address without delay
VVS Laxman (File Photo) @ IANS

बॉर्डर-गावस्‍कर सीरीज के तीसरे मुकाबले में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ टीम इंडिया को बुधवार को मेलबर्न के ग्राउंड पर उतरना है। पर्थ में जीत के बाद पहले ही ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के हौसले बुलंद हैं। वहीं, दूसरी ओर टीम इंडिया सलामी बल्‍लेबाजी से लेकर कई अन्‍य समस्‍याओं से जूझ रही है। भारतीय टीम के पूर्व बल्‍लेबाज वीवीएस लक्ष्‍मण ने ऑस्‍ट्रेलिया में जीत के लिए तीन गुरुमंत्र दिए हैं।

वीवीएस लक्ष्‍मण ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया के अपने कॉलम में लिखा, “मुझे लगता है कि टीम इंडिया को तीन क्षेत्रों में बिना देरी करे काम करने की जरूरत है। पहला मसला– लंबे समय से सही सलामी बल्‍लेबाजों की तलाश है। दूसरा मसला- सेट बल्‍लेबाजों में शतक तक नहीं पहुंच पाने की विफलता। जबकि तीसरा क्षेत्र जिसपर भारत को काम करने की जरूरत है वो है विरोधी टीम के निचले क्रम के बल्‍लेबाजों को रन बनाने से रोक पाना।”

पढ़े:- केएल राहुल- मुरली विजय बाहर, मयंक अग्रवाल को डेब्यू का मौका

सलामी बल्‍लेबाजी की समस्‍या से निजात पाने के लिए मंगलवार को टीम इंडिया ने मयंक अग्रवाल को बॉक्सिंग डे टेस्‍ट में मौका देने का निर्णय लिया है। बार-बार रन बनाने में फेल हो रहे मुरली विजय और केएल राहुल को तीसरे टेस्‍ट से बाहर का रास्‍ता दिखाया गया है। मेलबर्न टेस्‍ट में सलामी बल्‍लेबाज के रूप में मयंक अग्रवाल का साथ मिडल ऑर्डर के बल्‍लेबाज हनुमा विहारी निभाते नजर आ सकते हैं।

लक्ष्‍मण ने कहा, “मयंक ने टीम इंडिया में दरवाजे अपनी मेहनत, लगन और दृढ़ निश्‍चय से खोले हैं। उसने कर्नाटक और इडिया ए के लिए रन बनाए हैं। वो अपनी काबिलियत पहले ही साबित कर चुका है। वो सकारात्‍मकता के साथ टीम में आ रहा है। उसपर केएल राहुल की तरह का दबाव नहीं होगा।”

पढ़े:- BBL में अंग्रेजों का बोलबाला, बटलर-कर्रन ने खेली धमाकेदार पारी

वीवीएस लक्ष्‍मण का मानना है कि कुछ समय टेस्‍ट क्रिकेट से दूर रहने से केएल राहुल को काफी फायदा होगा। मुझे लगता है कि उसमें आत्‍मविश्‍वास की काफी कमी है। वो बार-बार एक जैसे तरीकों से आउट हो रहा है। उसे खुद को तरोताजा करने और अपना आत्‍मविश्‍वास वापस पाने के लिए कुछ समय की जरूरत है

विदेशी दौरों पर मिडल ऑर्डर का बार-बार फेल होना भी टीम इंडिया के लिए बड़ी समस्‍या है। मंगलवार को मीडिया से बातचीत के दौरान विराट ने इसपर कहा कि जितने रन हमारे बल्‍लेबाज बना रहे हैं उसमें गेंदबाज कुछ नहीं कर पाएंगे। उन्‍होंने बल्‍लेबाजों से अच्‍छा प्रदर्शन करने की अपील भी की।

एडिलेड और पर्थ टेस्‍ट के दौरान ऑस्‍ट्रेलिया के पुछल्‍ले बल्‍लेबाजों को जल्‍द आउट नहीं कर पाना भी टीम इंडिया की कमजोरी रहा है। इंग्‍लैंड दौरे पर भी टीम इंडिया इसी समस्‍या से जूझती नजर आई थी।