वनीडू हसारंगा © AFP
वनीडू हसारंगा © AFP

श्रीलंका और जिम्बाब्वे के बीच खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच में श्रीलंका के गेंदबाज वनीडू हसारंगा ने अपने पहले ही मैच में इतिहास रच दिया। जिम्बाब्वे के खिलाफ 19 साल के हसारंगा के वनडे करियर का ये पहला मैच था। पहले ही मैच में हसारंगा ने हैट्रिक लेकर बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर ली। इसके साथ ही हसारंगा अपने पहले ही मैच में हैट्रिक लेने वाले दुनिया के सिर्फ तीसरे और श्रीलंका के पहले गेंदबाज बने। वनडे क्रिकेट में इस कारनामे को अंजाम देने वाले हसारंगा दुनिया के पहले गेंदबाज बन गए। [ये भी पढ़ें: प्रिव्यू: चौथे वनडे में वेस्टइंडीज को हरा सीरीज पर कब्जा करना चाहेगा भारत]

हसारंगा से पहले मॉरिस एलॉम (टेस्ट), पीटर पेथरिक (टेस्ट) ही अपने पहले मैच में हैट्रिक लेने वाले गेंदबाज थे। इसके अलावा हसारंगा ने तीनों ही विकेट बिना किसी फील्डर की मदद से लिए हैं और ऐसा करने वाले वो दुनिया के 13वें खिलाड़ी बने हैं। क्रिकेट इतिहास में ऐसा कुल 15 बार हो चुका है। मलिंगा और वसीम अकरम ने ऐसा 2-2 बार किया है। अब आइए आपको बताते हैं कि आखिर हसारंगा ने कैसे इस कारनामे को अंजाम दिया।

जिम्बाब्वे की पारी के 34वें ओवर में श्रीलंका के कप्तान एंजेलो मैथ्यूज ने हसारंगा को गेंदबाजी में लगाया। हसारंगा ने ओवर की दूसरी गेंद पर वॉलर को क्लीन बोल्ड कर दिया। इसकी अगली गेंद पर हसारंगा ने तिरिपनो को भी LBW आउट कर दो गेंदों में लगातार दो विकेट ले लिए। अब हैट्रिक पूरी करने के लिए हसारंगा को अगली गेंद पर फिर से विकेट लेना था। कप्तान मैथ्यूज ने बल्लेबाज के पास फील्डरों का जाल सा बिछा दिया और बल्लेबाज के बिल्कुल पास 4 फील्डरों को खड़ा कर दिया। इस बीच हसारंगा ने गेंद कराई और बल्लेबाज छतारा क्लीन बोल्ड हो गए। इस तरह हसारंगा ने अपने पहले ही मैच में हैट्रिक लेकर इतिहास के सुनहरे पन्नों में अपना नाम दर्ज करा लिया। हसारंगा के गेंदबाजी आंकड़े (2.5-0-15-3) रहे।

हसारंगा की बेहतरीन गेंदबाजी के सामने जिम्बाब्वे की पूरी टीम मात्र 155 रनों पर सिमट गई। जवाब में बल्लेबाजी के लिए उतरी श्रीलंका की शुरुआत बी बेहत खराब रही और मात्र 10 रनों के अंदर ही टीम ने 2 विकेट गंवा दिए। खबर लिखे जाने तक श्रीलंका की टीम ने 2 विकेट खोकर 20 रन बना लिए थे। 5 मैचों की वनडे सीरीज में जिम्बाब्वे की टीम 1-0 से आगे चल रही है।