कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण इस समय दुनिया भर में लगभग सभी खेल की प्रतियोगिताएं स्थगित कर दी गई हैं. खिलाड़ी इस समय अपने घर पर परिवार के साथ समय बिता रहे हैं. उन्हें आउटडोर प्रैक्टिस की मनाही है. ऐसे में उनके लिए घर के अंदर खुद को फिट रखना चुनौती है. क्रिकेट मैचों के आयोजन को लेकर कई दिग्गजों का कहना है कि इसे खाली स्टेडियम में आयोजित कराने चाहिए जबकि कई इससे अलग राय रखते हैं.

पाकिस्तान क्रिकेट टीम  के गेंदबाजी कोच वकार युनूस का कहना है कि वह कोविड-19 महामारी के बीच खाली स्टेडियमों में क्रिकेट शुरु करने के पक्ष में नहीं है क्योंकि उन्हें लगता है कि जब दुनिया स्वास्थ्य संकट से जूझ रही है तो ऐसी योजनाओं से अधिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं.

पाक स्पिनर ने इस भारतीय को बताया सबसे खतरनाक बल्लेबाज, बोला- इनके खिलाफ गेंदबाजी करना मुश्किल

वकार ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए कहा कि अभी किसी भी तरह के क्रिकेट का आयोजन नहीं होना चाहिए. कोविड-19 महामारी के कारण दुनिया भर में 70,000 लोगों की जान चल गई है.

बकौल वकार, ‘नहीं, मैं इस सुझाव से सहमत नहीं हूं कि क्रिकेट गतिविधियों को खाली स्टेडियमों में जल्द ही शुरू करना चाहिए.’ कुछ पूर्व क्रिकेट सितारों और क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों ने कहा था कि खेल को धीरे-धीरे फिर से शुरू किया जा सकता है जहां मैचों का आयोजन खाली स्टेडियम में हो जरूरी सावधानी के साथ हो सकता है.

इस पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, ‘मुझे लगता है कि पांच छह महीने में जब दुनिया भर में चीजें नियंत्रित हो और जिंदगी सामान्य तरीके से पटरी पर आ जाए तब हम बिना दर्शकों के मैच के बारे में सोच सकते हैं. कुछ समय के बाद इस तरह के विकल्प के बारे में सोच सकते हैं लेकिन अभी या अगले महीने नहीं . यह स्थिति क्रिकेट गतिविधियों के लिए ठीक नहीं.’

…तो क्या Coronavirus बदल देगा क्रिकेट, टेनिस और फुटबॉल खिलाड़ियों की वर्षों पुरानी आदतें

वकार ने साफ किया कि वह चाहते है कि टी20 विश्व कप इसी साल ऑस्ट्रेलिया में हो भले ही इसका आयोजन देरी से हो. उन्होंने कहा, ‘जब भी मैं एक खिलाड़ी के रूप में या कोच के तौर पर पाकिस्तान जुड़ा रहता हूं तो मेरी ख्वाहिश किसी बड़े आईसीसी खिताब को जीतने की होती है. यही कारण है कि यह टी20 विश्व कप मेरे और टीम के लिए इतना महत्वपूर्ण है.’

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के कहर से पाकिस्तान भी इस समय चिंतित है जहां लोगों को इससे बचाव की मूलभूत सुविधाओं से दो-चार होना पड़ रहा है.