watch how harshal patel fooled dwaine pretorius by his brilliant slower ball
harshal patel @BCCI

नई दिल्ली: हर्षल पटेल ने बीते दो साल से आईपीएल में काफी नाम कमाया है। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के इस तेज गेंदबाज को गति-परिवर्तन के लिए जाना जाता है। पारी के आखिरी ओवरों के स्पेशलिस्ट माने जाते हैं पटेल। स्लो गेंद पर वह बल्लेबाजों के लिए रन बनाना मुश्किल कर देते हैं। कुछ ऐसा ही उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज के पहले मैच में भी कर दिखाया।

आईपीएल के प्रदर्शन के बाद उन्हें भारतीय टीम में जगह मिली और उन्होंने गुरुवार को अरुण जेटली स्टेडियम में खेले जा रहे मुकाबले में अपने पहले ही ओवर में काफी प्रभावित किया।

साउथ अफ्रीका के सामने 212 रनों का लक्ष्य था। रनगति को बढ़ाने के लिए ड्वेन प्रिटोरियस को नंबर तीन पर भेजा गया। वह अपनी इस जिम्मेदारी को बखूबी निभा भी रहे थे। उन्होंने अपनी दूसरी गेंद पर ही चौका लगाया। और इसके अगले ओवर में युजवेंद्र चहल की गेंद पर लंबा छक्का लगाकर साउथ अफ्रीकी पारी को रफ्तार देने का काम किया।

पारी का पांचवां ओवर करने की जिम्मेदारी कप्तान ऋषभ पंत ने हार्दिक पंड्या को दी। लेकिन प्रिटोरियस ने इस ओवर में तीन छक्के लगाकर पंड्या की गाड़ी को पटरी से उतारने का काम किया।

प्रिटोरियस भारतीय गेंदबाजों की जमकर खबर ले ही रहे थे कि पंत ने हर्षल पटेल को गेंद सौंपी। पटेल की पहली गेंद पर क्विंटन डिकॉक ने एक रन लिया। इसके बाद हर्षल ने अपनी उंगलियों का जादू दिखाया। उन्होंने गेंद के ऊपर उंगलियां घुमाईं और स्लो गेंद फेंकी। प्रिटोरियस उस गति-परिवर्तन को समझ नहीं पाए। गेंद बहुत देर से डिप हुई और तब तक प्रिटोरियस अपना शॉट खेल चुके थे। गेंद फुल टॉस थी और प्रिटोरियस उसे समझ नहीं पाए। 120 किलोमीटर की स्पीड से यह धीमी गेंद विकेट से जा टकराई। प्रिटोरियस ने 13 गेंद पर 29 रन की पारी खेली और चार छक्के लगाए।

गावस्कर भी हुए फैन

उस समय कॉमेंट्री कर रहे सुनील गावस्कर भी खुद को हर्षल की तारीफ करने से नहीं रोक पाए। गावस्कर ने कहा, ‘यह एक फुलटॉस होती लेकिन पटेल ने अपनी स्लो गेंद से प्रिटोरियस को ऐसा चकमा दिया कि वह बोल्ड हो गए। पटेल की शानदार स्लो गेंद।’ गावस्कर ने आगे कहा, ‘यह एक स्लो गेंद थी। पिछली गेंद 135 की स्पीड से थी। जब तक गेंद उनके हाथ से निकली नहीं तब तक ऐक्शन में कोई बदलाव नहीं था। इसने प्रिटोरियस को पूरी तरह से चकमा दे दिया। वह गेंद के तेज आने की उम्मीद कर रहे थे लेकिन ऐसा नहीं हुआ।’