watch how sri lanka team celebrated after beating pakistan in asia cup 2022
sri lanka celebration

दुबई: श्रीलंका ने वह कर दिखाया जिसकी उम्मीद एशिया कप 2022 शुरू होने से पहले बहुत कम लोगों को होगी. श्रीलंका एशिया कप 2022 का मेजबान था. लेकिन टूर्नमेंट यूएई मे खेला गया. वजह श्रीलंका में आर्थिक और राजनीतिक संकट. श्रीलंका क्रिकेट ने हाथ खड़े कर दिए कि वह टूर्नमेंट का आयोजन करवाने में सक्षम नहीं. ऐसे में टूर्नमेंट पहुंचा यूएई. पहले ही मैच में श्रीलंका को अफगानिस्तान से हार मिली. इस हार के बाद ऐसा लगा जैसे श्रीलंका का सफर लीग चरण में ही समाप्त हो जाएगा. लेकिन लंकाई टीम ने यहां से कमर कसी. परिस्थितियों को भांपा और टीम के खिलाड़ी एकजुट हुए. कहते हैं मुश्किल वक्त में टीम तैयार होती है. वैसा ही हुआ. और रविवार 11 सितंबर को श्रीलंका ने पाकिस्तान को 23 रन से हराकर छठी बार एशिया कप पर कब्जा किया. टी20 वर्ल्ड कप से पहले लंकाई टीम के लिए यह बड़ी खबर है.

जीत के बाद जाहिर तौर पर श्रीलंका के खिलाड़ी जीत का जश्न मना रहे हैं. इस जश्न के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. श्रीलंका के कप्तान दासुन शनाका ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया है जिसमें खिलाड़ियों को बल्ले से सलामी दी जा रही है. इसके साथ ही आतिशबाजी के साथ ढोल के साथ खिलाड़ियों का स्वागत किया जा रहा है. जश्न में विजेता टीम के खिलाड़ी नाच भी रहे हैं.

इसके साथ ही एशियन क्रिकेट काउंसिल ने एक वीडियो साझा किया है जिसमें लंकाई टीम के खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में नाच रहे हैं. खिलाड़ी जोश में एक दूसरे पर पानी फेंक रहे हैं. इतना ही नहीं स्टेडियम का एक केक भी काट रहे हैं.

दुबई में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने वाली टीम का पलड़ा भारी माना जा रहा था. और जब बाबर आजम ने टॉस जीता और गेंदबाजी चुनी तो पाकिस्तान के फैंस काफी खुश हो गए. उनकी खुशी में गेंदबाजों ने इजाफा किया जब 58 पर श्रीलंका के पांच विकेट गिर चुके थे. यहां से भानुका राजपक्षा और वानिंडु हसरंगा ने मिलकर श्रीलंका की पारी को पटरी पर लाने का काम किया. दोनों ने काउंटर अटैक की रणनीति अपनाई और पाकिस्तानी टीम को बैकफुट पर धकेला. दोनों ने छठे विकेट के लिए 58 रन जोड़े. राजपक्षा 45 गेंद पर 71 रन बनाकर नाबाद रहे. हसरंगा ने 21 गेंद पर 36 रन बनाए.

इसके बाद लंकाई गेंदबाजों ने भी पाकिस्तान की संभलकर खेलने की रणनीति पर कसाव शुरू किया. पाकिस्तान पर रनगति का दबाव बढ़ता गया. आखिर में बल्लेबाजी ढह गई और 171 के लक्ष्य में पाकिस्तान टीम सिर्फ 147 पर ही सिमट गई.