watch video how lalit yadav missed an easy run out chance of shikhar dhawan in match against pbks

दिल्ली कैपिटल्स ने सोमवार को पंजाब किंग्स को 17 रन से हरा दिया। इस जीत के साथ ही दिल्ली कैपिटल्स की टीम का इंडियन प्रीमियर लीग 2022 के प्लेऑफ में पहुंचने का दावा मजबूत हो गया है। दिल्ली की टीम के अब 14 अंक हैं और बेहतर रनरेट के आधार पर वह प्लेऑफ की चौथी टीम बनने की रेस में सबसे आगे है। प्लेऑफ के लिए दिल्ली और पंजाब दोनों ही टीमों के लिए यह मुकाबला जीतना बहुत जरूरी था। मयंक अग्रवाल की टीम हालांकि इस मैच में अच्छी शुरुआत के बावजूद जीत हासिल नहीं कर पाई।

पंजाब किंग्स के कप्तान मयंक अग्रवाल ने टॉस जीतकर दिल्ली की टीम को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया। मिशेल मार्श की शानदार बल्लेबाजी के दम पर दिल्ली ने 7 विकेट पर 159 रन का स्कोर बनाया। 160 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पंजाब की टीम के लिए शिखर धवन और जॉनी बेयरस्टो ने सही रफ्तार पकड़ी। लेकिन पारी के चौथे ओवर में एनरिच नॉर्त्जे ने अपनी तेज रफ्तार बाउंसर से बेयरस्टो को चलता कर दिया। 152 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से फेंकी गई इस गेंद को इंग्लैंड का यह खिलाड़ी काबू नहीं कर पाया और अक्षर पटेल ने आसान सा कैच पकड़ा।

क्रीज पर उतरे भानुका राजपक्षे

इसके बाद धवन का साथ देने उतरे भानुका राजपक्षे। यानी क्रीज पर बाएं हाथ के दो बल्लेबाज। दिल्ली की टीम के कप्तान ऋषभ पंत ने मौके की नजाकत को भांपते हुए ऑफ स्पिनर ललित यादव को गेंद थमाई। यादव ने अपनी पहली ही गेंद पर धवन को मुश्किल में डाल दिया। उनकी गेंद धवन के पैड से लगी। दिल्ली कैपिटल्स के खिलाड़ियों ने जोरदार अपील की। लेकिन मैदानी अंपायर ने लंबे सोच-विचार के बाद नॉट आउट करार दिया। ऋषभ पंत ने DRS लेने का फैसला किया। रीव्यू में नजर आया कि गेंद बेल्स को छूकर जा रही थी। यानी यह अंपायर्स कॉल हुआ। धवन को जीवनदान मिला और दिल्ली को निराशा।

फिर मौका चूके ललित यादव

हालांकि इसी ओवर की चौथी गेंद पर यादव के पास धवन को आउट करने का एक मौका था। इस बार गेंदबाजी से नहीं बल्कि फील्डिंग से। लेकिन यादव ने यहां भी गलती कर दी। समझदारी दिखाने के बजाय अधिक चतुराई दिखाने की कोशिश की।

हड़बड़ी में कर दी गड़बड़ी

यादव ने धवन को फुल लेंथ गेंद फेंकी। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने इसे मिड-विकेट की ओर धकेलकर एक रन चुराना चाहा। लेकिन यादव ने चपलता दिखाई और गेंद को शानदार तरीके से फील्ड किया। धवन गेंद को हिट करते ही दौड़ चुके थे। वह काफी आगे आ गए। राजपक्षे अपनी जगह से हिले नहीं। यानी अब दोनों बल्लेबाज एक ही छोर पर थे। रन-आउट करने के लिए इससे बेहतरीन और आसान मौका नहीं होता। लेकिन ललित यादव ने हड़बड़ी में गड़बड़ी कर दी।

उन्होंने गिरते-गिरते थ्रो किया। गेंद उनके नियंत्रण में नहीं थी। तो, जो थ्रो विकेटकीपर ऋषभ पंत के दस्तानों में जाना चाहिए था वह स्क्वेअर लेग पर गया। और बल्लेबाजों ने दौड़कर एक रन पूरा कर लिया। धवन हालांकि अपनी पारी को बहुत आगे नहीं ले जा पाए और 19 रन बनाकर शार्दुल ठाकुर की गेंद पर पंत के हाथों कैच आउट हो गए।