‘We Don’t Pay You to Play, We Pay You to Win’ reveals steven Smith Reveals

बॉल टैंपरिंग के दोषी ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ ने कहा कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने टीम में ‘हर हाल में जीत’ दर्ज करने की संस्कृति भरने में अहम भूमिका निभाई। इसी कारण टीम को गेंद से छेड़छाड़ करने जैसी विवादास्पद घटना से गुजरना पड़ा।

स्मिथ पर इस घटना में शामिल होने के कारण एक साल का प्रतिबंध लगा दिया गया था और इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट संस्कृति की समीक्षा की गई। स्मिथ ने ‘फॉक्स क्रिकेट’ में मेजबान एडम गिलक्रिस्ट को दिए साक्षात्कार में कहा, ‘‘मुझे याद है कि हम होबार्ट में दक्षिण अफ्रीका (नवंबर 2016) से हार गये थे और यह हमारी टेस्ट क्रिकेट में लगातार पांचवीं हार थी। इससे पहले श्रीलंका में हमने तीन टेस्ट गंवाये थे। मुझे याद है कि जेम्स सदरलैंड और पैट होवार्ड कमरों में आये और उन्होंने वास्तव में कहा कि , ‘हम आपको खेलने के लिये पैसे नहीं देते हैं, हम आपको जीतने के लिये पैसे देते हैं।’’

IPL में लय हासिल कर विश्व कप में वापसी करना चाहते हैं स्मिथ

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मुझे लगता है कि ऐसा कहना थोड़ा निराशाजनक था। हम मैच गंवाने के लिये नहीं खेल रहे थे, हम जीत के उद्देश्य से मैदान पर उतरते थे और उसके लिये कोशिश करते थे और अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते थे।’’

सदरलैंड ने इस घटना के बाद जहां मुख्य कार्यकारी के अपने पद से इस्तीफा दे दिया वहीं टीम प्रदर्शन से जुड़े अधिकारी होवार्ड को पिछले महीने स्वतंत्र समिति ने समीक्षा के बाद बर्खास्त कर दिया था। होवार्ड उन लोगों में थे जिन्होंने इस घटना के बाद स्मिथ और अन्य खिलाड़ियों पर सवाल उठाये थे।

स्मिथ ने कबूला, बॉल टैंपरिंग को रोक सकते थे पर नहीं रोका

स्मिथ ने कहा, ‘‘अगर आप संस्कृति और इस तरह की बात करते हैं तो आपको दक्षिण अफ्रीकी दौरे से दो महीने पहले के प्रदर्शन पर गौर करना होगा जबकि हमने ऑस्ट्रेलिया में एशेज 4-0 से जीती थी और लोग कह रहे थे कि टीम संस्कृति वास्तव में अच्छी है और सब कुछ अच्छा चल रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए चीजें बहुत तेजी से बदल सकती हैं। निश्चित तौर पर केपटाउन में जो कुछ हुआ उससे लोगों को यह कहने का मौका मिला कि टीम की संस्कृति बहुत खराब है। लोगों की इस पर अपनी राय होगी। मुझे नहीं लगता था कि तब हमारी टीम संस्कृति खराब थी।’