WE have to make many changes to adjust zero created because of suresh raina absence, says ab morkel
Suresh Raina with Albie morkel @ Twitter

IPL 2020 News Today: चेन्‍नई सुपर किंग्‍स (CSK) में बढ़ते कोरोना संक्रमण (Covid-19) के मामलों के बीच सुरेश रैना (Suresh Raina) यूएई छोड़कर वापस भारत लौट आए. बताया गया कि रैना के परिवार पर हुए हमले के कारण उन्‍होंने ये बड़ा कदम उठाया. रैना के जाने से चेन्‍नई फ्रेंचाइजी में पैदा हुए मध्‍यक्रम के संकट को लेकर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर एलबी मोर्कल (AB Morkel) चिंतित हैं.

उनका कहना है कि कि सुरेश रैना (Suresh Raina) की गैरमौजूदगी आने वाले आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) टीम में एक बड़ा शून्य पैदा कर देगी और टीम को संतुलन बनाने के लिए बल्लेबाजी में कई बदलाव करने पड़ेंगे. 19 सितंबर को पहले मुकाबले में चेन्नई का सामना मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) से होगा. रैना ने चेन्नई के लिए कुल 193 मैच खेले हैं और 5000 रन बनाए हैं. उन्होंने पिछले महीने निजी कारणों का हवाला देते हुए टूर्नामेंट से नाम वापस ले लिया था.

ब्‍लैक लाइफ मैटर को लेकर ऑस्‍ट्रेलियाई टीम घुटने पर क्‍यों नहीं बैठी ? कोच लैंगर ने बताया कारण

मोर्कल ने आईएएनएस से विशेष बातचीत में कहा, “रैना उनके लिए रन मशीन रहे हैं और बेहतरीन फील्डर भी. इसलिए उनकी गैरमौजूदगी एक बड़ा शून्य पैदा कर देगी. उनकी भरपाई करने के लिए चेन्नई को कुछ बदलाव करने पडेंगे और सही संतुलन बनाना पड़ेगा.” इस बार आईपीएल में सबसे ज्यादा ध्यान महेंद्र सिंह धोनी पर होगा क्योंकि वो पिछले साल इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप के बाद से पहली बार मैदान पर उतर रहे हैं. उन्होंने 15 अगस्त को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है.

IPL 2020: विराट, धोनी, रोहित, गेल जैसे बल्‍लेबाजों को किसने सबसे ज्‍यादा बार बनाया शिकार, जानें पूरी डिटेल

मोर्कल ने चेन्नई के साथ ही आईपीएल खेला है और जीता भी है. उन्होंने धोनी की तारीफ करते हुए कहा, “मैंने चेन्नई में अपने समय का सबसे ज्यादा लुत्फ उठाया. हमारे छह साल काफी सफल रहे, लेकिन उसके अलावा वो ग्रुप काफी अच्छा है. हमारी सफलता का अहम कारण धोनी थे. वह उदहारण पेश कर टीम की कप्तानी कर रहे हैं.”

आठ साल बाद बदली फ्रेंचाइजी, बोले- मैं धोनी को कॉपी नहीं करता हूं केवल…

उन्होंने कहा, “वो जो भी करते हैं उसमें वो काफी योग्य हैं, लेकिन उनके अंदर भारी दबाव में भी शांत रहने की आदत है.” दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट को लेकर मोर्कल ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में डीन एल्गर को टीम की कप्तानी करनी चाहिए जबकि सीमित ओवरों में क्विंटन डी कॉक को कप्तानी करते रहने चाहिए.

उन्होंने कहा, “दक्षिण अफ्रीका में ज्यादा अनुभवी लीडर नहीं हैं. एडिन मार्कराम को भविष्य के तौर पर देखा जा सकता है, लेकिन उन्हें अपने खेल में स्थिरता लाने की जरूरत है. मैं एल्गर के साथ जाऊंगा.”