वेस्टइंडीज © Getty Images (File Photo)
वेस्टइंडीज © Getty Images (File Photo)

जिम्बाब्वे और वेस्टइंडीज के बीच खेले गए पहले टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज का बोलबाला देखने को मिला और मेहमान टीम ने मुकाबले को चौथे दिन 117 रनों से अपने नाम कर लिया। वेस्टइंडीज की जीत के हीरो रहे उनके स्पिन गेंदबाज देवेंद्र बिशू। बिशू ने मैच में कुल 9 विकेट अपने नाम किए और उन्हें मैन ऑफ द मैच भी दिया गया। वेस्टइंडीज ने अपनी दूसरी पारी में 373 रन बनाए थे और जिम्बाब्वे के सामने जीत के लिए 434 रनों का लक्ष्य रखा था। जवाब में जिम्बाब्वे की पूरी टीम 316 रनों पर सिटन गई। लक्ष्य का पीछा करने उतरी जिम्बाब्वे को हैमिल्टन मसाकाजा और सोलोमन मायर ने बेहतरीन शुरुआत दिलाई। दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 99 रनों की साझेदारी निभाई।

इसी दौरान मसाकाजा (57) रन बनाकर पहले विकेट के रूप में आउट हुए। अभी स्कोर में 10 रन और जुड़े थे कि दूसरे ओपनर मायर (47) भी आउट होकर पवेलियन लौट गए। जिम्बाब्वे के विकेट गिरने का सिलसिला जारी रहा औक टीम ने इसके बाद क्रिग एरविन (18), सीन विलियमस (6), सिकंदर रजा (30) के विकेट भी खो दिए। हालांकि इस दौरान एक छोर पर ब्रेंडन टेलर टिके रहे और लगातार रन बनाते रहे। हालांकि टेलर को दूसरे किसी भी बल्लेबाज का साथ नहीं मिला और दूसरे छोर पर लगातार विकेट गिरते रहे।

दूसरे वनडे में नहीं चलेगा टॉम लैथम का बल्ला, टीम इंडिया ने बदली रणनीति
दूसरे वनडे में नहीं चलेगा टॉम लैथम का बल्ला, टीम इंडिया ने बदली रणनीति

टेलर ने अपना अर्धशतक भी पूरा किया। इस बीच टीम ने मैल्कम वॉलर (11), रेगिस चकाब्वा (1) के विकेट भी खो दिए। रही सही कसर टेलर (73) के रन आउट होने से पूरी हो गई। टेलर के आउट होते ही वेस्टइंडीज के गेंदबाजों ने जिम्बाब्वे को 316 रनों पर ढेर कर मुकाबले को 117 रनों से अपने नाम कर लिया। जिम्बाब्वे की तरफ से टेलर ने सबसे ज्यादा (73) रनों की पारी खेली। इस जीत के साथ ही वेस्टइंडीज ने 2 मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है।