Breaking News

    Rohit Sharma Captaincy: रोहित शर्मा की कप्तानी को लेकर हुआ बड़ा फैसला, बीसीसीआई से मिली राहत

    Rohit Sharma Captaincy: रोहित शर्मा की कप्तानी को लेकर हुआ बड़ा फैसला, बीसीसीआई से मिली राहत

    रोहित शर्मा की कप्तानी को लेकर बीसीसीआई की बैठक में बड़ा फैसला लिया गया. फिलहाल वनडे और टेस्ट में उनकी कप्तानी पर कोई खतरा नहीं है.

    Updated: January 2, 2023 10:53 AM IST | Edited By: Bharat Malhotra
    रोहित शर्मा की कप्तानी को लेकर सवाल उठ रहे थे. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की टीम ने जब रविवार को बैठक की तो सवाल उठा क्या रोहित शर्मा पर भी कोई फैसला लिया जा सकता है. या बोर्ड इसे लेकर कोई रोडमैप बनाएगा. लेकिन, खबरों के मुताबिक फिलहाल हिटमैन की कप्तानी को लेकर बोर्ड ने कोई फैसला नहीं लिया है. बोर्ड के सूत्रों ने बताया है कि रोहित की वनडे और टेस्ट कप्तानी पर फिलहाल कोई खतरा नहीं है. इन दोनों फॉर्मेट में रोहित की कप्तानी को लेकर बोर्ड को कुछ भी ज्यादा गलत नहीं लगा है. रविवार को रोहित और मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने मुंबई में बीसीसीआई की रीव्यू मीटिंग में हिस्सा लिया. यह मीटिंग बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने आयोजित की थी. इस रीव्यू मीटिंग में पिछली सिलेक्शन कमिटी के अध्यक्ष चेतन शर्मा, एनसीए अध्यक्ष वीवीएस लक्ष्मण, बीसीसीआई के अध्यक्ष रोजर बिनी भी शामिल थे. टीम इंडिया का फोकस फिलहाल वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप है. भारत के पास इसके फाइनल में पहुंचने का मौका है. इसके साथ ही 2023 50 ओवर वर्ल्ड कप पर भी चर्चा हुई. टी20 फॉर्मेट के नए कप्तान हार्दिक पंड्या इस बैठक का हिस्सा नहीं थे. हार्दिक मुंबई में ही थे. भारतीय टीम को बुधवार से श्रीलंका के खिलाफ तीन टी20 इंटरनैशनल मैचों की सीरीज खेलनी है. सीरीज का पहला मैच वानखेड़े में खेला जाएगा. समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया, 'रोहित टेस्ट और वनडे में भारतीय टीम की कप्तानी कर रहे हैं. और इन दोनों फॉर्मेट में रोहित के उत्तराधिकारी को लेकर कोई सवाल नहीं उठा. उनकी कप्तानी इन दोनों फॉर्मेट में बहुत अच्छी रही है.' इसमें यह भी यह तय किया गया कि 20 खिलाड़ियों का एक पूल बनाया गया है और 50 ओवर वर्ल्ड कप तक इन्हीं प्लेयर्स को रोटेट किया जाएगा. चेतन शर्मा रविवार को हुई इस रीव्यू मीटिंग का हिस्सा थे. ऐसे में यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि वह एक बार फिर सीनियर नैशनल कमिटी के चैयरमैन बन सकते हैं. अगर वह चैयरमैन नहीं भी बनते तो शायद वह उत्तर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते रह सकते हैं. भारत के पूर्व पेसर वेंकटेश प्रसाद का नाम भी साउथ जोन से सामने आ रहा है. लेकिन उनका शामिल होना पक्का नहीं है. पूर्व क्षेत्र से भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज शिवसुंदर दास का नाम सामने आ रहा है. वहीं वेस्ट जोन से मुकुंद परमार, सलिल अंकोला और समीर दीघे के बीच त्रिकोणीय लड़ाई है.
    Advertisement