जुलाई में होने वाले श्रीलंका दौरे के लिए भारतीय टीम में चुने गये सलामी बल्लेबाज रूतुराज गायकवाड़ (Ruturaj Gaikwad) ने शुक्रवार को कहा कि दिग्गज क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) जो भी बोलते वो हमेशा ही फॉलो करने लायक होता है।

इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान धोनी की कप्तानी में खेल चुके गायकवाड़ ने कहा, ‘‘माही भाई के साथ की बात करू तो, जाहिर तौर पर वो जो कुछ भी बोलते हैं, वो हमेशा फॉलो करने लायक होता है। मैंने सुना था कि उन्होंने मैच के बाद की प्रेसेंटेशन के दौरान मेरे बारे में बात की थी। मैं उनके साथ ज्यादा बात नहीं करता, उन्हें पता है कि मैं शांत और शर्मीला खिलाड़ी हूं। धोनी को जब भी लगता कि मैं दबाव हूं तो वह मेरे पास सबसे पहले आते थे और कहते थे कि चिंता की कोई बात नहीं।’’

गायकवाड़ ने कहा कि वो श्रीलंका के आगामी दौरे पर परिस्थितियों से जल्दी सामांजस्य बिठाने की अपनी क्षमता पर भरोसा जताएंगे। महाराष्ट्र का 24 साल का ये बल्लेबाज 13 जुलाई से 25 जुलाई तक चलने वाले श्रीलंका दौरे पर शिखर धवन की अगुवाई में चुनी गई 20 सदस्यीय टीम में छह नए चहरों में से एक है।

गायकवाड़ ने कहा, ‘‘मैं काफी खुश हूं। जिस पल से मुझे इसके बारे में पता चला, मेरी आंखों के सामने अपने करियर का सफर आ गया कि मैंने कहा से अपना सफर शुरू किया था और मैं कहां पहुंचना चाहता हूं। अभी भावनाओं से भरा हुआ हूं। आप उन लोगों के बारे में सोचते हैं जिन्होंने पूरी यात्रा में आपका साथ दिया है, चाहे वो मेरे माता-पिता हों, दोस्त हों या कोच। तो जाहिर तौर पर सभी के लिए गर्व की अनुभूति और सभी के लिए खुशी की बात है।’’

गायकवाड़ को लगता है कि खेल में किसी भी स्थिति में ढलना उनकी ‘प्रमुख ताकत’ है। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी ताकत टीम के जरूरत के मुताबिक खेलना है चाहे वो आक्रामक तरीके से हो या स्थिति के अनुसार। कई बार ये सुनिश्चित करना होता है कि टीम मुश्किल परिस्थिति से बाहर निकले। मैं आक्रामक और रक्षात्मक दोनों स्थितियों के अनुकूल हूं, यही मुझे लगता है कि ये मेरी ताकत है।’’

आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के साथ सफलता हासिल करने के बाद तेजी से उभरे इस युवा खिलाड़ी ने कहा कि वो फिर से राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) के साथ फिर से जुड़ना चाहते हैं, जो टीम के मुख्य कोच होंगे। द्रविड़ इससे पहले भारतीय अंडर-19 और ए टीमों को कोचिंग दे चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘इस दौरे पर सीमित अवसर मिलेगा लेकिन मैं इस यात्रा से जितना हो सके सीखने की उम्मीद कर रहा हूं। टीम में अनुभवी खिलाड़ी हैं और जाहिर है एक बार फिर मुझे राहुल सर के साथ जुड़ने का मौका मिलेगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘‘भारत ए’ का आखिरी दौरा लगभग डेढ साल पहले हुआ था, ऐसे में एक बार फिर से उनके मिलने और बात करने का मौका मिलेगा। इसलिए यह प्रदर्शन और स्कोरकार्ड के आंकड़ों से काफी अधिक है। जाहिर है अगर मुझे मौका मिलता है, तो उम्मीद है कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दे सकूं और भारत के लिए मैच जीत सकूं। मेरा सबसे बड़ा लक्ष्य भारतीय टीम या अपने देश के लिए जीत हासिल करना है।’’

गायकवाड़ अब चंदू बोर्डे और केदार जाधव जैसे महाराष्ट्र के उन शानदार क्रिकेटरों की सूची में शामिल हो सकते हैं जो भारत की तरफ से खेले। उन्होंने कहा कि जाधव ने उनकी यात्रा में प्रभावशाली भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा, ‘‘केदार (जाधव) मेरी यात्रा की शुरुआत से मेरे साथ हैं, जब से मेरा प्रथम श्रेणी करियर शुरू हुआ और मुझे लगता है कि वो पूरी यात्रा में बहुत प्रभावशाली रहे हैं। वो हमेशा मुझे प्रोत्साहित करते रहे हैं।’’