© AFP
© AFP

कोलकाता में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए दूसरे वनडे में भुवनेश्वर कुमार का एक करारा शॉट नॉन स्ट्राइकिंग छोर पर खड़े हार्दिक पांड्या के हेलमेट पर लगा था। गेंद लगने से पांड्या जमीन पर गिर पड़े थे। चूंकि, गेंद उनके हाथ और हेलमेट के ग्रिल पर लगी थी इसलिए पांड्या चोटिल होने से बाल-बाल बच गए और कुछ देर बाद ही उठ खड़े हुए और बैटिंग करने लगे। मैच के बाद भुवनेश्वर कुमार ने बताया कि उन्हें इसका बात का ऐहसास नहीं था कि उन्होंने गेंद बहुत जोर से मारी है।

उन्होंने कहा, “मैंने इस बात की पुष्टि करने के लिए कि क्या ये स्ट्रोक इतनी ताकत के साथ मैंने ही मारा है, अपना बैट चेक किया। जब पांड्या को गेंद लगी तो हम सभी चिंतित थे। यह देखने में काफी गंभीर लग रहा था, लेकिन अच्छी बात ये है कि उन्हें कुछ नहीं हुआ। जब वह अपने पैरों पर खड़े हुए, हम पार्टनरशिप बनाने के बारे में सोचने लगे।” भुवी ने मैच में हार्दिक पांड्या के साथ महत्वपूर्ण साझेदारी निभाई और टीम इंडिया के स्कोर को 252 तक पहुंचाया। बाद में भुवी ने गेंदबाजी में भी खासे हाथ दिखाए और टीम इंडिया ने मैच 50 रन से जीतते हुए सीरीज में 2-0 से बढ़त ले ली।

[ये भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के लिए बुरी खबर, इंदौर में भी कुलदीप यादव-चहल करेंगे परेशान!]

भुवनेश्वर कुमार ने मैच में नई गेंद के साथ शानदार गेंदबाजी की और उन्होंने स्पैल 6.1-2-9-3 के साथ खत्म किया। उन्होंने दोनों ओपनरों डेविड वॉर्नर और हिल्टन कार्टराइट को आउट किया। कप्तान विराट कोहली ने कहा, “हमे पता था कि अगर हम विकेट नहीं लेंगे तो कठिन होगा। भुवी का स्पैल और ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया क्योंकि हमे पता था कि रिस्ट स्पिनर बीच के ओवरों में तबाही मचाएंगे। जिन गेंदों पर भुवी ने बल्लेबाजों को आउट किया उन्हें खेलना नामुमकिन था। ब्रेकथ्रू लेने के लिए आप भुवी का नाम को दिमाग में रख सकते हो।”

जब तेज गेंदबाजों ने गेंदबाजी खत्म की तो दोनों रिस्ट स्पिनरों ने जिम्मेदारी ली। चहल ने 34 रन देकर 2 विकेट झटके तो कुलदीप यादव ने हैट्रिक ले डाली। वह भारत की ओर से वनडे में हैट्रिक लेने वाले तीसरे गेंदबाज बने।

कोहली ने कहा, “दोनों युवा स्पिनर दिल लगाकर गेंदबाजी कर रहे थे, यह बताता है कि वे कितने बेहतरीन हैं। अगले कुछ सालों में वर्ल्ड कप है ऐसे में यह हमारे लिए अच्छा संकेत है कि कैसे टीम आकार ले रही है। टीम में गेंदबाजी और बल्लेबाजी का अच्छा संतुलन है। हम जानते हैं कि वे भविष्य के मैचों में भी हमारे लिए अच्छा प्रदर्शन करेंगे। इसके कारण जो 20 से 25 खिलाड़ी हमारे पास हैं उनके बीच कंपटीशन चलता रहता है।”