स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana) की कप्तानी वाली ट्रेलब्लेजर्स ने सुपरनोवा (Supernova) को 16 रन से हराकर अपने पहले महिला टी20 चैलेंज खिताब पर कब्जा कर लिया है. इससे पहले दो खिताब जीत चुकी सुपरनोवा की टीम आज खिताबी हैट्रिक का इरादा लेकर उतरी थी लेकिन स्मृति को दमदार बैटिंग और फिर उनकी टीम की शानदार बॉलिंग ने उसे यह मुकाम हासिल नहीं करने दिया.

देखें ट्रेलब्लेजर्स की इस शानदार खिताबी जीत में चमकीं यह पांच खिलाड़ी

आज नहीं रुका स्मृति मंधाना का बल्ला

अपनी ताबड़तोड़ बैटिंग के लिए पहचानी जाने वालीं ट्रेलब्लेजर्स की कप्तान स्मृति मंधाना (Smrii Mandhana) लीग मैचों में फ्लॉप रही थीं. लेकिन आज फाइनल में उन्होंने अपना वही अंदाज पेश किया, जिसके लिए वह जानी जाती हैं. मंधाना ने अपनी टीम के लिए 49 बॉल में 68 रन की विस्फोटक पारी खेली. इस दौरान उन्होंने 5 चौके और 3 छक्के भी जमाए. स्मृति के अलावा उसके कोई और बल्लेबाज नहीं चल पाईं लेकिन मंधाना की कप्तानी पारी की बदौलत टीम ने इतना स्कोर (118/8) बना लिया था कि वह सुपरनोवा को मात दे सके. इस शानदार पारी के लिए उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच भी चुना गया.

दीप्ति शर्मा ने किए दो शिकार

119 रन का टारगेट हरमप्रीत की कप्तानी वाली सुपरनोवा टीम के लिए खास मुश्किल नहीं था. ऐसे में अनुभवी दीप्ति रावत को मालूम था कि वह कैसे रनों पर लगाम लगाकर अपनी टीम को मैच में ला सकती हैं. उन्होंने जेमिमा रोड्रिग्स (13) और तान्या भाटिया (14) के रूप में दो विकेट जल्दी जल्दी लेकर सुपरनोवा पर दबाव बना दिया. उन्होंने 3 ओवर में सिर्फ 9 ही रन खर्च किए. इस खिलाड़ी ने बैट से भी 9 रन का उपयोगी योगदान दिया.

ट्रेलब्लेजर्स की टीम ©BCCI/IPL

सलमा खातून ने जीत पर लगाई मोहर

पारी के 19वें ओवर में भी सुपरनोवा मैच से बाहर नहीं थी क्योंकि अभी जीत के लिए 12 बॉल में 26 रन की दरकार थी और क्रीज पर खतरनाक हरमनप्रीत कौर खड़ी थीं, जो ऐसा करिश्मा करने में माहिर मानी जाती हैं. लेकिन सलमा ने ऐसा होने नहीं दिया और उन्होंने इसी ओवर में हरमन (30) समेत अनुजा पाटिल और पूजा वस्त्रकार का विकेट झटककर ट्रेलब्लेजर्स की जीत सुनिश्चित कर दी.

सूफी एक्लिस्टन ने दिलाई बड़ी कामयाबी

सुपरनोवा की ओपनिंग बल्लेबाज चामरी अट्टापट्टू इस सीजन शानदार फॉर्म में थीं. अगर ट्रेलब्लेजर्स को उनका विकेट जल्दी नहीं मिलता तो कम स्कोर वाला यह मैच ट्रेलब्लेजर्स के हाथ से निकल सकता था. लेकिन उसकी तेज गेंदबाज सूफी एक्लिस्टन ने पारी की शुरुआत में ही चामरी (6) LBW आउट कर अपनी टीम के लिए जीत का दरवाजा खोल दिया.

झूलन गोस्वामी ने भी झोंका अनुभव

ट्रेलब्लेजर्स की अनुभवी गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने भी विरोधी टीम पर रनों की रफ्तार पर अंकुश लगाकर दबाव बनाए रखा. इस गेंदबाज को भले मैच में कोई विकेट न मिला हो. लेकिन छोटे टोटल को बचाने के लिए कम रनों का खर्च करना भी जरूरी थी, जो उन्होंने बखूबी किया. इस अनुभवी बॉलर ने 4 ओवर में सिर्फ 17 रन ही खर्च किए.