मंधाना ने दिलाई टीम इंडिया को जीत  © Getty Images
मंधाना ने दिलाई टीम इंडिया को जीत © Getty Images

इंग्लैंड के खिलाफ शानदार जीत दर्ज करने के बाद महिला वर्ल्ड कप के दूसरे मैच में भी टीम इंडिया ने अपना बेहतरीन खेल जारी रखा। दूसरे मैच में भारत ने वेस्टइंडीज पर 7 विकेट से बड़ी जीत हासिल की। भारत ने टॉस जीतकर गेंदबाजी चुनी और वेस्टइंडीज को 50 ओवरों में 8 विकेट पर 183 रनों पर ही रोक दिया। आसान से लक्ष्य को भारत ने स्मृति मंधाना (नाबाद 106) की शतकीय पारी की बदौलत 42.3 ओवरों में 3 विकेट खोकर हासिल कर लिया। कप्तान मिताली राज ने भी 46 रनों की अहम पारी खेली। इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 108 रनों की साझेदारी की। ये साझेदारी तब आई जब भारत ने 33 रनों पर ही अपने दो विकेट खो दिए थे।

टीम इंडिया की खराब शुरुआत

आसान से लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम का खाता भी नहीं खुला था कि पूनम राउत पैवेलियन लौट गई थीं। उनके बाद विंडीज की कप्तान स्टेफेनी टेलर ने दीप्ती शर्मा (6) को बोल्ड कर भारत को दूसरा झटका दिया। यहां से स्मृति ने कप्तान के साथ पारी को संभाला और टीम को जीत के करीब ले गईं। 141 के कुल स्कोर पर मिताली जब अर्धशतक से 4 रन दूर थीं तभी हायेले मैथ्यूज ने उन्हें पवेलियन भेज दिया। इसके बाद स्मृति को मोना मेश्राम (नाबाद 18) का साथ मिला और दोनों ने मिलकर टीम को जीत दिला दी। मंधाना ने चौका लगाकर टीम इंडिया को जीत दिलाई। ये भी पढ़ें-क्रिकेट के मैदान पर मिताली ‘राज’, बना डाला एक और वर्ल्ड रिकॉर्ड

भारत की कसी हुई गेंदबाजी

इससे पहले, विंडीज टीम भारतीय गेंदबाजों की कसी हुई गेंदबाजी के सामने खुलकर नहीं खेल पाई। एक समय लग रहा था कि विंडीज जल्द ही ऑल आउट हो जाएगी, लेकिन एफे फ्लैचर (नाबाद 36) और अनिसा मोहम्मद (नाबाद 11) ने टीम को 50 ओवरों से पहले ढेर होने से बचा लिया। भारतीय की ओर से पूनम यादव सबसे सफल गेंदबाज रहीं। उन्होंने 10 ओवरों में 19 रन देकर 2 विकेट हासिल किए। दीप्ती शर्मा ने 10 ओवरों में 27 रन देकर 2 विकेट लिए। हरमनप्रीत कौर को भी 2 सफलताएं मिलीं। एकता बिष्ट ने भी किफायती गेंदबाजी की और 10 ओवरों में 23 रन देकर एक विकेट अपने खाते में डाला।