World Cup 2019, AUS vs WI: Chris Gayle couldn’t survive third time from wrong Umpiring
AUS vs WI Screengrab

ऑन फील्‍ड अंपायरों के गलत फैसलों से निजात दिलाने के लिए विश्‍व क्रिकेट में डिसीजन रिव्‍यू सिस्‍टम (DRS) को लाया गया, लेकिन ऐसी ऐसी स्थिति से खिलाड़ियों को कैसे बचाया जाए जिसमें अंपायर एक के बाद एक गलतियां करता ही चला जाए। जी हां, ऑस्‍ट्रेलिया और वेस्‍टइंडीज के बीच खेले गए विश्‍व कप 2019 के 10वें मुकाबले में विस्फोटक बल्‍लेबाज क्रिस गेल के साथ कुछ ऐसा ही हुआ।

क्रिस गेल मैच के दौरान एक बार नहीं बल्कि तीन बार अंपायर के गलत फैसलों के चलते आउट दिए गए। दो बार तो डीआरएस की मदद से उन्‍हें जीवनदान मिल गया, लेकिन तीसरी बार ऐसा नहीं हो सका।

पहला मौका

पहली बार मिशेल स्‍टार्क के ओवर में गेंद क्रिस गेल के बल्‍ले से छूए बिना ही विकेटकीपर एलेक्‍स कैरी के दस्‍तानों में गई। ऑस्‍ट्रेलिया द्वारा इसपर अपील की गई तो अंपायर ने गेल को आउट करार दिया। गेल ने बिना देरी करें DRS की मदद ली। तीसरे अंपायर ने भी पाया की गेंद गेल के बल्‍ले से नहीं लगी थी। गेंद स्‍टंप्‍स को छूकर निकली, लेकिन बेल्‍स नहीं गिरी। लिहाजा उन्‍हें जीवनदान मिल गया।

दूसरा मौका

इसी ओवर छठी गेंद पर गेंद गेल के पैड पर जाकर लगी। अंपायर ने उन्‍हें आउट करार दिया। गेल ने एक बार फिर DRS की मदद ली। जिसमें पता चला कि गेंद लेग स्‍टंप के बाहर टप्‍पा खाई है। लिहाजा उन्‍हें तीसरे अंपायर की मदद से दूसरा जीवनदान मिल गया।

तीसरा मौका

छठे ओवर में एक बार फिर मिशेल स्‍टार्क गेंदबाजी पर थे और उनके सामने थे क्रिस गेल। गेल पहले की तरह इस बार भाग्‍यशाली नहीं रहे। वो एक ऐसी गेंद पर आउट हुए जो वास्‍तव में फ्री हिट होनी चाहिए थी। पिछली गेंद पर स्‍टार्क का पैर लाइन से बाहर था, लेकिन अंपायर की इसपर नजर नहीं पड़ी। गेंद गेल के पैर पर लगी और अंपायर ने उन्‍हें एलबीडब्‍ल्‍यू आउट करार दिया। एक बार फिर DRS की मदद ली गई। अंपायर्स कॉल के आधार पर गेल को इस बार आउट करार दिया गया। यानि अगर अंपायर ने इसे नॉटआउट करार दिया होता और ऑस्‍ट्रेलिया की तरफ से DRS की मांग की गई होती तो गेल को नॉटआउट करार दिया जाता।

खास बात ये है कि तीसरे अंपायर ने गेल की मौजूदा गेंद का तो रिव्‍यू किया, लेकिन उन्‍होंने ये नहीं देखा कि स्‍टार्क की पिछली गेंद नोबॉल थी। ऐसे में गेल को आउट देने की जगह इसपर उन्‍हें फ्री हिट मिलनी चाहिए थी।