World Test Championship: ICC may go for points sharing for match couldn’t organized due to Covid-19
Mohammad Shami with virat Kohli and Team India @ Twitter

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) चक्र को पूरा करने और जून में कार्यक्रम के अनुसार फाइनल की मेजबानी करने के लिये अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) उन सभी डब्ल्यूटीसी द्विपक्षीय श्रृंखलाओं के लिये अंक बांटने पर विचार कर रहा है जिन्हें कोविड-19 महामारी के चलते स्थगित करना पड़ा।

ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के अनुसार अगले महीने होने वाली क्रिकेट समिति की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा होने की संभावना है।

वेबसाइट के अनुसार इसमें एक विकल्प अंक बांटना है तो दूसरा अनुकूल विकल्प सिर्फ उन्हीं मैचों के अंकों पर विचार करने का हो सकता है जो मार्च 2021 के अंत तक खेले जायेंगे।

विराट कोहली आईपीएल में 500 चौके लगाने वाले बने दूसरे खिलाड़ी, ये बल्‍लेबाज है नंबर-1

अंक तालिका में अंतिम स्थान मार्च तक के इन मैचों के आधार पर तय हो सकता है जिसके लिये टीमों द्वारा खेले गये मैचों में मिली जीत के अंकों के प्रतिशत के आधार पर गणना की जा सकती है।

अभी तक प्रत्येक श्रृंखला 120 अंक की होती है और मैचों की संख्या (दो, तीन, चार या पांच) के आधार पर अंक बांट दिये जाते हैं। दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला के लिये विजेता टीम को प्रत्येक मैच से 60 अंक मिलते हैं जबकि ड्रा से 30 अंक। इसी तरह तीन या चार मैचों की श्रृंखला के लिये अंक बांटे जाते हैं

ड्वेन ब्रावो चोट के चलते IPL 2020 से हुए बाहर, इस तरह लगी थी चोट

वेबसाइट के अनुसार, ‘‘इस साल महामारी के चलते काफी टेस्ट स्थगित कर दिये गये हैं। इस मार्च 2021 के अंत में समाप्त होने वाले डब्ल्यूटीसी लीग चक्र के अंदर इनके आयोजन की बात तो छोड़ ही दीजिये, कई मामलों में तो यह भी स्पष्ट नहीं है कि कब इनका आयोजन हो सकता है। ’’

वेबसाइट ने लिखा कि वे जिस अंक बांटने की प्रणाली पर विचार कर रहे हैं, वो स्थगित हुई श्रृंखला के कुल अंक का एक तिहाई अंक वितरित करना है।

IND vs AUS: ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर 5वें तेज गेंदबाज को लेकर फंसा है पेच, ये नाम हैं सबसे आगे

इसके अनुसार, ‘‘अंक को नियमों के अंदर ही बांटा जायेगा जिसमें चक्र में जो सभी मैच नहीं खेले जा सके (जिसमें किसी भी टीम की गलती नहीं थी), उन्हें ड्रा माना जायेगा। इस स्थिति में दोनों टीमों को एक टेस्ट (प्रत्येक श्रृंखला के लिये 120 अंक) के लिये उपलब्ध अंक के एक तिहाई अंक मिलेंगे। अंकों के प्रतिशत के लिये मौजूदा नियमों में बदलाव की जरूरत होगी। ’’