Wriddhiman Saha hopes to be back in action by mid-December
Wriddhiman Saha. @ AFP

भारतीय टेस्‍ट टीम में इस वक्‍त रिषभ पंत विकेटकीपर की भूमिका निभा रहे हैं, लेकिन दिग्‍गजों का मानना है कि उन्‍हें अभी भी अपनी विकेटकीपिंग में काफी सुधार की जरूरत है। पिछले कुछ सालों में ऋद्धिमान साहा टेस्‍ट टीम में विकेटकीप‍र की भूमिका बखूबी निभा चुके हैं। साल की शुरुआत में साउथ अफ्रीका दौरे के दौरान पहले टेस्‍ट मैच में वो चोटिल हो गए थे। हैमस्ट्रिंग इंजरी के कारण वो अबतक टीम में वापसी नहीं कर पाए हैं। ऋद्धिमान साहा को उम्‍मीद है कि वो दिसंबर के मध्‍य तक पूरी तरह लय में लौट आएंगे

साहा ने 32 टेस्‍ट मैचों में 30.63 की औसत से 1,164 रन बनाए हैं। उन्‍होंने कहा, ” मैं पहले से अच्‍छा महसूस कर रहा हूं। मुझे उम्‍मीद है कि दिसंबर के मध्‍य में मैं पूरी तरह वापसी कर लूंगा। उसी हिसाब से मैं इन दिनों ट्रेनिंग ले रहा हूं। मुझे उम्‍मीद है कि मेरी बॉडी सही समय पर रिकवर कर लेगी। मैं रणजी ट्रॉफी 2018-19 सीजन में खेलने के लिए पूरी तरह से फिट हूं। मैंने नेट सेशन भी शुरू कर दिए है, लेकिन मैच के लिए फिट होना अभी भी बाकी है।”

भारतीय टीम को अब ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर छह दिसंबर से चार मैचों की टेस्‍ट सीरीज खेलनी है। इस सीरीज में साहा का टीम में वापसी कर पाना आसान नजर नहीं आ रहा है। ऑस्‍ट्रेलिया के बाद टीम इंडिया जुलाई 2019 में टेस्‍ट सीरीज खेलेगी। साहा को उम्‍मीद है कि अगले साल वो टेस्‍ट टीम में वापसी कर लेंगे।

ऋद्धिमान साहा ने कहा, “हर किसी को एक चक्र से गुजरना होता है। पहले घरेलू क्रिकेट में रन बनाने होंगे। जिसके बाद टीम में सिलेक्‍शन के लिए इंतजार करना होगा।” साहा मौजूदा सीजन में बंगाल की तरफ से रणजी ट्रॉफी में उतर सकते हैं। उन्‍होंने कहा, “बचपन से ही मैं काफी सकारात्‍मक सोच का इंसान रहा हूं। चोट से उबरने के लिए रिहैब से गुजरना काफी बोरिंग होता है। अगर आप में लगन है तो आप बोर नहीं होगे।”