Wriddhiman Saha wanted to test himself in English condition
Wriddhiman Saha (File Photo) © IANS

भारतीय टीम इंग्‍लैंड में टेस्‍ट सीरीज हारी तो इसके लिए बल्‍लेबाजी क्रम के बार-बार फ्लॉप होने को जिम्‍मेदार ठहराया गया। साहा की जगह दिनेश कार्तिक को विकेटकीपर के तौर पर टीम में जगह दी गई, लेकिन वो पूरी तरह से फ्लॉप रहे। नॉटिंघम और साउथम्‍पटन टेस्‍ट में युवा रिषभ पंत को कार्तिक की जगह मौका दिया गया।

रिषभ पंत विकेटकीपिंग में शानदार प्रदर्शन कर टीम मैनेजमेंट का ध्‍यान अपनी ओर खींचने में कामयाब जरूर रहे, लेकिन बल्‍ले से दोनों ही मैचों में कुछ खास कमाल नहीं दिखा सके। टीम के मुश्किल समय में गैर जिम्‍मेदाराना शॉट लगाकर आसान कैच देकर वो आउट हुए।

टेस्ट टीम के विकेटकीपर रिद्धिमान साहा कंधे की चोट के कारण टीम से बाहर हैं। क्रिक बज से बातचीत के दौरान साहा ने कहा, “मैं खुद से ज्‍यादा काेशिश करते हुए इंग्‍लैंड दौरे के लिए जल्‍द से जल्‍द ठीक होने का प्रयास करता रहा, लेकिन फिजियो से मुझे ग्रीन सिग्‍नल नहीं मिल सका। हर कोई इंग्‍लैंड दौरे के बारे में बात कर रहा हैं। साल 2014 में जब भारतीय टीम इंग्‍लैंड गई थी तो मैं टीम के साथ था। न सिर्फ मेरे लिए बल्कि हर बल्‍लेबाज के लिए इंग्‍लैंड में खेलना बड़ा टेस्‍ट होता है।”

रिद्धिमान साहा ने कहा, “मैं इस कठिन सीरीज में खेलना चाहता था। मैने कंधे की सर्जरी के बाद दो भारी इंजेक्‍शन लिए हुए हैं और तीसरे ने उतना अच्‍छा असर नहीं दिखाया। इस बारे में डॉक्‍टर ज्‍यादा अच्‍छा बता सकते हैं। इंग्‍लैंड दौरे पर मैं केवल 50 से 60 प्रतिशत तक ठीक होकर अपनी टीम को निराश नहीं करना चाहता।”

रिद्धिमान साहा ने कहा, “फील्‍ड पर वापस आने पर मेरा ध्‍यान नहीं है। मैं बस वो कर रहा हूं जो मुझे करने के लिए कहा जा रहा हैं। अभी ठीक होने में चार महीने का वक्‍त लग सकता है।” माना जा रहा है कि साहा ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के दौरान टीम के साथ मौजूद नहीं रहेंगे।