टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के हाथों पहली बार खेला गया वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मैच 8 विकेट से गंवा दिया है. कई जानकारों के मुताबिक भारतीय टीम को यहां एक अतिरिक्त तेज गेंदबाजों की कमी महसूस हुई लेकिन कप्तान विराट कोहली ने कहा कि उन्हें अपनी इस प्लेइंग XI को खिलाने का कोई मलाल नहीं है. अगर उनकी टीम यहां 30-40 रन और जोड़ लेती तो वह मैच का रुख अपने पाले में कर सकती थी.

मैच खत्म होने के बाद कप्तान विराट कोहली ने मैच में अपनी टीम की परफॉर्मेंस पर बात करते हुए न्यूजीलैंड की टीम को उसके शानदार खेल के लिए बधाई दी. उन्होंने कहा कि कीवी टीम ने यहां बेहतरीन निरंतरता और दिल दिखाया, जिससे वह करीब तीन दिन में ही मैच जीत ले गई. (बाकी 3 दिन मैच में ज्यादातर बारिश ही हावी रही.)

उन्होंने कहा, ‘उन्होंने (न्यूजीलैंड) ने हमें पूरे मैच के दौरान दबाव में रखा. दूसरे दिन लय पाना मुश्किल था लेकिन हमने पहली पारी बॉलिंग अच्छी की थी. लेकिन आज (बुधवार) की सुबह ने मैच में अंतर पैदा किया और उनके गेंदबाजों ने अपनी योजनाओं को खूबसूरत अंदाज में कामयाब बनाया और हमें रन बनाने के कोई मौके नहीं दिए. हम उन्हें 30 से 40 रन का कम लक्ष्य दे पाए.’

मैच से दो दिन पहले ही अपनी प्लेइंग XI घोषित करने के सवाल पर भारतीय कप्तान ने कहा, ‘मुझे अपनी प्लेइंग XI का ऐलान मैच से पहले घोषित करने का कोई मलाल नहीं है. क्योंकि आपको टीम में एक ऑलराउंडर की जरूरत होती है लेकिन हमने एकमत होकर अपनी यह बेस्ट XI चुनी थी.’ इस मौके पर विराट ने मैन ऑफ द मैच चुने गए काइल जैमीसन के खेल की भी जमकर तारीफ की.

इस मौके पर विराट ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप आयोजित कराने की आईसीसी के फैसले की भी जमकर सराहना की. उन्होंने कहा कि इससे टेस्ट क्रिकेट का महत्व और भी बढ़ेगा और यही फॉर्मेट क्रिकेट की धड़कन है.