Year Ender 2019: साल-2019 को खत्म होने में अब महज कुछ घंटे ही बाकी रह गए हैं. खास बात यह है कि इसके साथ हम एक दशक को भी अलविदा कहेंगे. इस दौरान क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट यानी टी-20 में कई टीमों ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन किए जबकि कई खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन कर दिग्गजों को ‘दांतों तले अंगुली’ दबाने पर मजबूर किया.

कोहली टॉप पर रहते हुए साल को कहेंगे अलविदा, रोहित को फायदा, पुजारा को नुकसान

Indian Cricket Team @ iansसाल 2010 से 2019 के बीच सबसे ज्यादा टी-20 मैच जीतने के मामले में पाकिस्तान की टीम ने बाजी मारी. पाकिस्तान (Pakistan Cricket Team)ने इस दौरान 122 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेले जिसमें उसे 69 मैचों में जीत मिली. इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर टीम इंडिया (Indian Cricket Team) रही. हालांकि इस दौरान भारतीय टीम ने पाकिस्तान से 16 मैच कम खेले.

भारत ने 106 टेस्ट मैचों में से 68 में जीत हासिल की जबकि ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 98 मैच खेलकर 54 जीत के साथ तीसरे नंबर पर रही. इस दौरान अफगानिस्तान की टीम का रिकॉर्ड बेहतरीन रहा. उसने 78 टेस्ट मैच खेले जिसमें उसे 53 मैचों में जीत मिली. अफगानिस्तान ने इस प्रदर्शन से ये संकेत देने की कोशिश की कि आने वाले समय में वह लिमिटेड ओवर्स की क्रिकेट में अन्य टीमों के लिए खतरा बन सकती है.

पिछले एक दशक में दक्षिण अफ्रीका को 89 टी-20 मैच खेलने को मिले जिसमें से उसे 51 में जीत मिली.

टी-20 में व्यक्तिगत तौर पर सबसे बड़ी पारी खेलने वाले बल्लेबाजों में कोई भारतीय नहीं

Hazartullah Zazai @twitter

वैसे भारतीय बल्लेबाजों ने पिछले एक दशक में कई रिकॉर्ड बनाए हैं लेकिन जहां तक टी-20 में व्यक्तिगततौर पर सबसे बड़ी पारी खेलने का सवाल उठता है वहां कोई भारतीय बल्लेबाज दूर-दूर तक नहीं हैं.

इस वर्ष (2019) अफगानिस्तान के ओपनर हजरतुल्लाह जजई (Hazratullah Zazai) ने नाबाद 162 रन की पारी खेली थी. यह टी-20 इंटरनेशनल की इस वर्ष की सबसे बड़ी पारी रही. जजई ने ये पारी भारत में आयरलैंड के खिलाफ खेली थी. उन्होंने देहरादून में खेली गई अपनी इस बेजोड़ पारी में 62 गेंदों पर 11 चौके और 16 छक्के जड़े.

Year-Ender 2019: ‘कोहली एंड कंपनी’ ने इस साल बनाए कई ‘विराट’ रिकॉर्ड, कोई भी टीम नहीं इसके आसपास

ऑस्ट्रेलिया के विस्फोटक ओपनर एरोन फिंच (172 रन, 2018, 156 रन, 2013 में), विंडीज के युवा सलामी बल्लेबाज (125* रन, 2017), ऑस्ट्रेलिया के अनुभवी ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल (145* रन, 2016), दक्षिण अफ्रीका के टेस्ट कप्तान फाफ डु प्लेसिस (119 रन, 2015 में), इंग्लैंड के विस्फोटक ओपनर एलेक्स हेल्स (116*), न्यूजीलैंड के दिग्गज ब्रेंडन मैक्कुलम (123 रन 2012 में, 116* रन 2010 में) और श्रीलंका के पूर्व ओपनर तिलकरत्ने दिलशान ने 2011 में नाबाद 104 रन की पारी खेली थी.