You can’t drop someone like Mithali Raj says Sunil Gavaskar
Mithali raj @facebook page

भारतीय महिला टीम कि वनडे कप्तान मिताली राज को आईसीसी वर्ल्ड टी20 में इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में बाहर बिठाने का मामला काफी चर्चा में है। मिताली का कहना था, कोच रमेश पोवार ने उनका अपमान किया है। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने मिताली का समर्थन किया है।

मिताली ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था, 20 साल देश के लिए क्रिकेट खेलने के बाद इस तरह से बड़े मुकाबले में बेंच पर बिठाया जाना अपमानजनक था। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने मिताली का समर्थन किया है।

इंडिया टूडे से बात करते हुए उन्होंने कहा, मिताली राज जैसी बड़ी खिलाड़ी को इतने बड़े मुकाबले में बाहर बिठाना सही नहीं। मिताली के साथ हुए बर्ताव से दुखी हूं, उनका तर्क पूरी तरह से सही है। मिताली ने भारत के लिए 20 साल क्रिकेट खेला है बहुत सारे रन बनाए हैं और टूर्नामेंट के दो मैच (पाकिस्तान और आयरलैंड) में वह प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रही। एक मैच के लिए वह चोटिल हो गई थी, लेकिन उसके बाद बाद के मुकाबले के लिए वह फिट थी।

गावस्कर ने पुरुष टीम का उदाहरण देते हुए कहा, मान लो यही परिस्थिति पुरुष क्रिकेट में होती। विराट कोहली एक मैच के लिए चोटिल हो जाते और उसके बाद वह नॉक आउट के लिए फिट होते तो क्या आप उनको बाहर बिठाते। आपको अपने बेस्ट खिलाड़ी को नॉक आउट मैच के लिए चुनना जरूरी है। टीम को मिताली राज के अनुभव की जरूरत थी।

मिताली राज को प्लेइंग इलेवन में शामिल ना करने के बाद दिए गए जवाब के गावस्कर खुश नहीं हैं। उन्होंने कहा, उनका कहना था वह उसी टीम के साथ बने रहना चाहते थे। मुझे नहीं लगता यह बहाना काफी है। आप मिताली राज जैसी खिलाड़ी को टीम से बाहर नहीं रख सकते हैं।