पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने पिछले साल टीम इंडिया का बल्लेबाजी कोच बनाए गए विक्रम राठौड़ की क्षमता पर ही गहर प्रश्‍नचिन्‍ह्र लगा दिए हैं. युवराज का मानना है कि टेस्‍ट और वनडे में तो ठी है लेकिन टी20 क्रिकेट में राठौड़ के पास खिलाड़ियों को देने के लिए कुछ नहीं हैं. युवराज ने परोक्ष रूप से मुख्‍य कोच रवि शास्‍त्री पर भी निशाना साधा.

2007 टी20 विश्व कप और 2011 विश्व कप में टीम इंडिया को विजेता बनाने में युवराज सिंह की अहम भूमिका है. उन्‍होंने कहा ,‘‘राठौड़ मेरा दोस्त है. क्या आपको लगता है कि वह टी20 खिलाड़ियों की मदद कर सकता है. उसने उस स्तर पर क्रिकेट खेली ही नहीं है.’’

राठौड़ ने भारत के लिये 1996 से 1997 के बीच छह टेस्ट और सात वनडे खेले हैं. युवराज ने कहा कि अलग अलग खिलाड़ियों के साथ अलग तरीके से पेश आना पड़ता है. ‘‘मैं कोच होता तो जसप्रीत बुमराह को रात नौ बजे गुडनाइट बोल देता और हार्दिक पांड्या को रात दस बजे ड्रिंक्स के लिये बाहर ले जाता. अलग-अलग लोगों से अलग-अलग तरीके से पेश आना पड़ता है.’’

युवराज सिंह ने रवि शास्त्री पर भी तंज कसते हुए कहा कि मौजूदा खिलाड़ियों के पास सलाह देने के लिये कोई नहीं है. यह पूछने पर कि क्या यह शास्त्री का काम नहीं है, उन्होंने कहा ,‘‘पता नहीं रवि यह कर रहा है या नहीं लेकिन शायद उसके पास दूसरे भी काम है.’’