Yuvraj Singh posts video of one of the strangest dismissals in cricket, Here is the Possible explanations

क्रिकेट के मैदान पर आए दिन कई अजीब कारनामे होते रहते हैं लेकिन यहां हम आपको जिस घटना के बारे में बताने जा रहे हैं वो शायद ही पहले कभी हुई हो। भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें अंपायर के उंगली उठाने पर एक बल्लेबाज जो कि साफ तौर पर नॉट आउट था, वह पवेलियन लौट जाता है। ताज्जुब की बात तो ये है कि वीडियो में ना गेंद बल्लेबाज के बल्ले पर लगी, ना ही गेंदबाज और ना ही विकेटकीपर ने किसी भी तरह की अपील की फिर भी अंपायर ने बल्लेबाज को आउट दे दिया। आखिर अंपायर ने ऐसा क्यों किया, हम आपको बताते हैं।

इस खिलाड़ी की मदद से आक्रामक गेंदबाजी कर पाते हैं मिचेल स्टार्क
इस खिलाड़ी की मदद से आक्रामक गेंदबाजी कर पाते हैं मिचेल स्टार्क

दरअसल ये वीडियो इंटरनेट पर काफी वायरल हो चुका है। वीडियो के पूरे इंटरनेट पर फैल जाने के बाद पाकिस्तान के एक स्पोर्ट्स एडिटर ने इस घटना को लेकर एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने पूरी स्थिति को समझाने की कोशिश की है। आसिफ खान नाम के इस शख्स ने अपने ट्वीट में लिखा, “ये काफी पुराने काउंटी मैच का वीडियो है, गेंदबाज का नाम मोहम्मद अकरम है। मुझे ये बताया गया था कि स्लिप पर खड़े इयान सैलिसबरी ने कैच आउट की अपील की थी। ये अंपायर का पहला प्रथम श्रेणी मैच था। पहले ही दो गेंद बल्लेबाज के सीने पर लग चुकी थी, इसलिए वह डर से मैदान से बाहर चला गया।”

A post shared by Yuvraj Singh (@yuvisofficial) on

कुछ लोगों का ये भी कहना है कि अंपायर ने बल्लेबाज को आउट नहीं बल्कि टाइम आउट का इशारा किया था। दरअसल ये लंच के बाद डाली गई पहली गेंद थी और दोनों बल्लेबाजों ने क्रीज पर आने में 3 मिनट से ज्यादा का समय ले लिया था। अंपायर को ये तब समझ आया जब गेंद डाली जा चुकी थी। दूसरे बल्लेबाज को भी अगली गेंद पर आउट दे दिया गया था। वैसे यूट्यूब पर इसके असली वीडियो में पूरी स्थिति साफ समझ आती है।

असली वीडियो में लिखा है कि, “ये डिसमिसल सर्रे बनाम लीड्य/ब्रैडफोर्ट यूसीसीई मैच का है जो 15 अप्रैल 2007 को ओवल में खेला गया था। बल्लेबाज का नाम टॉम मेरिलहट है और सर्रे के विकेटकीपर जॉन बैटी हैं। गेंदबाज का नाम मोहम्मद अकरम है। नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े अंपायर का नाम इयान गाउल्ड है। पिछले ओवर में बल्लेबाज ने विकेट पर बल्ला लगा दिया था लेकिन अंपायर ने ओवर खत्म होने का इशारा किया था। इसलिए सभी ने मिलकर ये फैसला किया था कि गेंदबाज एक और गेंद कराएगा और फिर बल्लेबाज को आउट दिया जाएगा।” वैसे ये बात भी सुनने में अजीब ही लगती है लेकिन इस बात में कोई दोराय नहीं है कि ये क्रिकेट इतिहास के सबसे अनोखे डिसमिसल में से एक है।