युवराज सिंह © AFP
युवराज सिंह © AFP

सिक्सर किंग के नाम से मशहूर युवराज सिंह ने साल 2007 में खेले गए टी20 विश्व कप में 6 गेंदों में 6 छक्के ठोके थे। युवराज ने ये कारनामा इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर किया था। युवराज ने ब्रॉड की 6 गेंदों को लगातार बाउंड्री के बाहर भेजा था और इतिहास के सुनहरे पन्नों में अपना नाम दर्ज कराया था। इसके साथ ही टी20I में ये कारनामा करने वाले युवराज पहले बल्लेबाज बने थे और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में हर्शल गिब्स के बाद ऐसा करने वाले वो सिर्फ दूसरे बल्लेबाज बने थे। अब युवराज सिंह ने 6 छक्के लगाने के पीछे का खुलासा किया है। युवराज ने एक कार्यक्रम में इस बात का खुलासा किया है कि आखिर वो क्या चीज थी जिसने उन्हें 6 छक्के लगाने के लिए प्रेरित किया। हैदराबाद बनाम दिल्ली के लाइव ब्लॉग को पढ़ने के लिए क्लिक करें

युवराज ने कहा, ”अक्सर 6 छक्कों की बात होती है, आज मैं बताता हूं कि आखिर उसके पीछे की वजह क्या है। दिमित्री मैस्क्रेहनेस ने मेरी गेंदों पर 5 छक्के ठोक दिए थे। उस दिन एंड्रू फ्लिंटफ अच्छी गेंगबाजी कर रहे थे, मैं अच्छे शॉट खेल रहा था, फ्लिंटफ का दिन अच्छा था और उन्होंने मेरा मजाक बनाया था। लोगों को लगता है कि फ्लिंटफ ने मुझे कुछ कहा था और इसलिए मैंने 6 छक्के मारे। लेकिन मुझे लगता है कि अगर उस दिन फ्लिंटफ कुछ नहीं भी कहता, तब भी मैं 6 छक्के मार देता। क्योंकि मेरे बल्ले पर गेंद बहुत अच्छे से आ रही थी और मैं अच्छे शॉट खेल रहा था। कभी-कभार कुछ ऐसे दिन भी होते हैं जब आपको पता होता है कि क्या होने वाला है और इसलिए मुझे इसका अंदाजा पहले ही हो रहा था कि गेंद कहां आने वाली है।”

जब युवराज से सवाल किया गया कि क्या आपको लगता है कि 5 छक्के खाने से आपको ब्रॉड की गेंदों पर 6 छक्के लगाने में मदद मिली। इस पर युवराज ने कहा, ”निश्चित रूप से, मैसक्रेहनेस जानते थे कि मैं उन्हें धीमी गति की गेंद फेंकूंगा और उसी को समझकर उन्होंने मेरी गेंदों पर छक्के जड़े। मैं जानता था कि ब्रॉड यॉर्कर के अलावा कोई भी गेंद नहीं फेंकेंगे, वो दबाव में थे। उनके पास यॉर्कर के अलावा कोई विकल्प नहीं था और यही कारण था कि मैंने 6 अलग-अलग दिशाओं में छक्के लगाए थे।” आपको बता दें कि युवराज की बेहतरीन बल्लेबाजी की बदौलत भारत ने मुकाबले को 18 रनों से जीत लिया था।