युवराज सिंह और सुरेश रैना © Getty Images
युवराज सिंह और सुरेश रैना © Getty Images

श्रीलंका वनडे सीरीज के लिए जब टीम इंडिया का ऐलान हुआ तो उसमें दो खिलाड़ियों के नाम गायब दिखे। पहला युवराज सिंह और दूसरा सुरेश रैना। इन दोनों ही खिलाड़ियों को टीम इंडिया में शामिल ना करने की वजह को लेकर खबरें उड़ी कि खराब फिटनेस के चलते युवी-रैना को शामिल नहीं किया गया। बताया जा रहा था कि ये दोनों खिलाड़ी एनसीए में हुए यो यो टेस्ट में फेल हो गए। मगर ऐसा नहीं है, टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर की मानें तो इन दोनों खिलाड़ियों को यो-यो टेस्ट में फेल होने के चलते टीम से बाहर नहीं रखा गया। इस तरह की खबरें बिलकुल ही गलत हैं। दरअसल टीम इंडिया में किसी भी खिलाड़ी के चयन के कई पैमाने होते हैं सिर्फ यो यो टेस्ट में फेल होने के चलते टीम से बाहर नहीं रखा जाता।

टीम इंडिया के चीफ सेलेक्टर एम एस के प्रसाद ने भी कहा था कि युवराज सिंह को टीम से बाहर नहीं किया गया है बल्कि उन्हें आराम दिया गया है। युवराज सिंह वेस्टइंडीज दौरे पर टीम इंडिया का हिस्सा थे, साथ ही सुरेश रैना भी कड़ी ट्रेनिंग के वीडियो ट्विटर पर डाल रहे थे। टीम इंडिया के पूर्व ट्रेनर रामजी श्रीनिवासन का भी मानना है कि बीसीसीआई कभी भी किसी खिलाड़ी को यो यो टेस्ट में फेल होने के चलते टीम से बाहर नहीं कर सकती। इसके अलावा ताकत, रफ्तार जैसे टेस्ट भी होते हैं जिन्हें ध्यान में रखा जाता है। भारत दौरे के लिए ऑस्ट्रेलिया टीम का ऐलान

रामजी श्रीनिवासन ने युवराज सिंह और सुरेश रैना के साथ काफी समय तक काम किया है। उन्होंने कहा, ‘जब मैंने सुना कि रैना और युवराज फिटनेस टेस्ट में फेल हो गए हैं तो मैं हैरान रह गया। मैं इन दोनों खिलाड़ियों को पिछले 15 सालों से देख रहा हूं, ये दोनों कड़ी मेहनत करते हैं, इन्होंने हमेशा ऊंचा स्तर बनाए रखा है। खासकर युवराज सिंह ने कैंसर से उबरने के बाद अपनी फिटनेस पर बहुत मेहनत की है।’