युवराज सिंह © Getty Images
युवराज सिंह © Getty Images

दो विश्व कप टूर्नामेंट में भारतीय टीम के नायक रहे युवराज सिंह के लिए चुनौतियां हमेशा ही कुछ बेहतर कर दिखाने का मौका रही हैं। पूर्व चयनकर्ता सबा करीम का भी कुछ ऐसा ही मानना है। करीम ने टीम इंडिया को चेतावनी दी है कि वह अपने जोखिम कर युवराज को टीम से बाहर करें। पूर्व क्रिकेटर ने क्रिकनेक्स्ट से बातचीत में कहा, “युवराज को अपने जोखिम पर टीम से निकालें। वो फीनिक्स पक्षी की तरह है, उसे हर बार अपनी ही राख से जन्म लेना पसंद है।”

करीम का मानना है कि युवराज को अपने पुराने फॉर्म में आने में कुछ समय जरूर लगेगा। उन्होंने कहा, “पिछले अनुभवों के आधार पर मुझे लगता है अभी कुछ कहना थोड़ा जल्दबाजी होगी। हां, उसे कुछ चीजों पर काम करना है लेकिन फिर वह एक चैंपियंस क्रिकेटर है और हर बार उसने खुद को साबित किया है।” भारतीय टीम के चयनकर्ता रह चुके करीम का कहना है कि वह भी अपने कार्यकाल में सोचते थे कि युवराज सिंह का टीम में वापसी करना नामुमकिन है लेकिन युवी ने हमेशा ही उन्हें गलत साबित किया। करीम ने बताया, “बतौर चयनकर्ता अपने छोटे से कार्यकाल के दौरान मैं भी सोचा करता था कि युवराज राष्ट्रीय टीम में वापसी नहीं कर पाएगा। लेकिन मैं बेहद खुश हूं कि उसने हम सबको गलत साबित किया।” [ये भी पढ़ें: महेंद्र सिंह धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया है ऐसा रिकॉर्ड जिसे नहीं तोड़ पाया कोई भी भारतीय कप्तान]

करीम ने कहा कि युवराज को अपनी फिटनेस पर काम करने के साथ ही घरेलू टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी और खींचने की जरूरत है। उन्होंने ये भी कहा कि युवराज को मौजूदा टीम इंडिया के बारे में ज्यादा नहीं सोचना चाहिए। करीम ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि मौजूदा टीम क्या कर रही है, वह इस पर ज्यादा ध्यान दे रहा होगा। इस बारे में ज्यादा सोचने से कोई मदद नहीं मिलने वाली है। मुझे यकीन है कि युवराज अपने खेल को बेहतर बनाने पर ज्यादा काम कर रहा होगा और सही मौके के इंतजार में होगा। जब भी उसे मौका मिलेगा वह उसका पूरा फायदा उठाना चाहेगा।” [ये भी पढ़ें: स्टीवन स्मिथ को सता रहा है विराट कोहली का ‘डर’]

अगर युवराज टीम में वापसी करते भी हैं तो वह किस स्थान पर और किस खिलाड़ी की जगह खेलेंगे, इसे लेकर करीम ने साफ बयान दिया। उन्होंने कहा, “आप ये नहीं कह सकते कि किसी जगह पर ए या बी हमेशा के लिए फिट हो सकते हैं। यह सब स्थिति पर निर्भर करता है, आपको नहीं पता कि कब मैनेजमेंट को लगे कि युवराज जैसा अनुभवी खिलाड़ी इस स्थिति में सही बैठ रहा है।”