Yuzvendra Chahal: I still feel the nerves and get anxious whenever I get on field
Yuzvendra Chahal (IANS)

साल 2016 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने के बाद से टीम इंडिया के लिए 40 वनडे और 29 टी20 मैच खेल चुके युजवेंद्र चहल आज भी मैदान पर नर्वस होते हैं। अपना पहला वनडे विश्व कप खेलने के करीब पहुंच रहे चहल ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में ये बात कही।

चहल ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो आज भी जब मैं मैदान पर उतरता हूं तो नर्वस महसूस करता हूं लेकिन एक बार जब मैच शुरू हो जाता है और थोड़ा सेट हो जाता हूं और भीड़ धुंधली हो जाती है। शायद यही परिपक्वता है।”

तीन साल के कम समय के अंदर ने चहल ने भारतीय वनडे और टी20 टीम में प्रमुख स्पिन गेंदबाज के तौर पर अपनी जगह पक्की कर ली है। इस बारे में चहल ने कहा, “खेल खेल कर परिपक्वता आई है। जब कप्तान आपके ऊपर इतना भरोसा दिखाता है तो अच्छा लगता है। टीम के मुख्य खिलाड़ियों का हिस्सा बनना अच्छा लगता है। इसके साथ दबाव भी आता है लेकिन जिस तरह से आप दबाव को झेलते हैं वो भी आपके आगे बढ़ने की प्रक्रिया का हिस्सा है।”

ये भी पढ़ें: मेरा काम अच्छा प्रदर्शन करना है, चयन मेरे नियंत्रण में नहीं: ऋद्धिमान साहा

मौजूदा समय में सीमित ओवर फॉर्मेट में रिस्ट स्पिनर्स की बादशाहत है। भारत के साथ साथ बाकी टीमें भी प्लेइंग इलेवन में कम से कम एक रिस्ट स्पिनर रखने को तवज्जो दे रही हैं। रिस्ट स्पिनर्स को लेकर एक खास तरह की मिस्ट्री बनी हुई है जिसे ज्यादातर अंतर्राष्ट्रीय बल्लेबाज समझ नहीं पाएं हैं। हालांकि चहल का मानना है कि लगातार अच्छा प्रदर्शन करने की क्षमता उनकी सफलता का राज है है। उन्होंने कहा, “आपको किसी भी पक्ष में लगातार अच्छा करना होता है। यही पहला नियम है। आप किसी भी स्तर पर विपक्षी खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दे सकते। ये भी पेशेवर खिलाड़ी हैं और वो खराब गेंद की ताक में रहते हैं। इसलिए पहली कोशिश ये होनी चाहिए कि खराब गेंदो को कम से कम किया जाय।”

दुनिया भर के रिस्ट स्पिनर्स के बीच कड़ी प्रतिद्वंदिता पर चहल ने कहा, “हम सभी एक दूसरे से आत्मविश्वास ले रहे हैं। हमने लगभग हर स्थिति में अच्छा प्रदर्शन किया है और हमें एहसास हुआ है कि हमें यही करते रहना है। हमें हालात के हिसाब से अपना खेल बदलना नहीं है।”

ये भी पढ़ें: टी20 क्रिकेट में गलतियां स्वीकार की जाती हैं, टेस्ट में नहीं: चेतेश्वर पुजारा

भारतीय टीम के 2019 विश्व स्क्वाड के संभावित खिलाड़ियों में से एक चहल अपने पहले बड़े आईसीसी टूर्नामेंट को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने कहा, “मुझे पता है कि विश्व कप एक अलग तरह का दबाव लाएगा। मैंने पहले कभी इस तरह का कोई बड़ा टूर्नामेंट नहीं खेला है तो मुझे वहां पहुंचने के बाद ही ये समझ आएगा। अभी जैसा चल रहा है, अच्छा है। मैं इसके बारे में जितना कम सोचूंगा, उतना ज्यादा ध्यान दे पाउंगा। मेरा पास जो भी वैरिएशन है मैं उसे परफेक्ट बनाने की कोशिश करूंगा। मैं कुछ नया जोड़ने के बारे में नहीं सोच रहा हूं।”