कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए समूचे विश्व में खेल की लगभग सभी प्रतियोगिताएं या तो रद्द कर दी गई हैं या उन्हें स्थगित कर दिया गया है. न्यूजीलैंड की क्रिकेट टीम हाल में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गई थी जहां उसके तेज गेंदबाज लॉकी फर्ग्यूसन के गले में दर्द की शिकायत की जिसके बाद उन्हें टीम से बाहर कर अलग रख दिया गया और उनका कोविड-19 टेस्ट हुआ जिसका रिपोर्ट निगेटिव आया.

‘T20 में सबसे पहले ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा लगाएंगे दोहरा शतक’

फर्ग्यूसन को लगता है कि चीजों को थोड़ा बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया. इस 28 साल के तेज गेंदबाज ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे के बाद गले में दर्द की शिकायत की थी जिसके तुरंत बाद उन्हें पृथक कर दिया गया. शनिवार को उनका परीक्षण हुआ जिसमें उन्हें संक्रमित नहीं पाया गया. अब वह अपने परिवार के साथ हैं और उन्हें लगता है कि इस मामले को बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया.

स्वदेश लौटने पर उन्होंने आकलैंड हवाईअड्डे पर पत्रकारों से कहा, ‘नहीं, शायद मैं जैसा महसूस कर रहा था, उसे थोड़ा बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया. मुझे मामूली से जुकाम के लक्षण थे और फिजियो टॉमी सिमसेक और सहयोगी स्टाफ ने प्रक्रियाओं का पालन किया. पूरी तरह से समझ सकता हूं. हां, मैंने एक दिन होटल के कमरे में अकेले बिताया.’

क्या वह लक्षण देखकर नर्वस हो गये थे क्योंकि कोरोनावायरस इतनी तेजी से फैल रहा है तो उन्होंने कहा, ‘उस नजर से देखो तो मैंने यही सोचा कि यह जुकाम के लक्षण हैं. क्रिकेट खेलते हुए यात्रा करते समय ऐसा हो जाता है. यह कुछ अलग नहीं था. लेकिन जैसा कि मैंने कहा कि हमारे फिजियो और डॉक्टरों ने प्रक्रिया का पालन किया. हां, 24 घंटे अकेला रहा लेकिन ठीक है. लेकिन अगले दिन जब उठा तो मैं ठीक था.’

शोएब अख्तर बोले-पाकिस्तान क्रिकेट की सबसे बड़ी खोज हैं बाबर आजम

कोरोना वायरस से अब तक पूरी दुनिया में 1,60,000 के करीब लोग संक्रमित हो चुके हैं और करीब 6,000 लोगों की मौत हो चुकी है. फॉर्ग्यूसन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के स्थगित होने के बाद स्वदेश लौट चुके हैं. लेकिन इस सीरीज का पहला मैच खाली स्टेडियम में खेला गया.

उन्होंने कहा, ‘साथ ही, मैच जैसा रहा हम उससे थोड़े निराश थे. हां, उस रात मुझे परीक्षण के लिए ले जाया गया और वहां मैंने डॉक्टरों से बात की. भाग्यशाली रहा हूं कि सब कुछ ठीक रहा और घर आकर खुश हूं.’