बेन स्टोक्स ने तूफानी दोहरा शतक लगाकर दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजी की जड़ें हिलाकर रख दीं   © Getty Images (File Photo)
बेन स्टोक्स ने तूफानी दोहरा शतक लगाकर दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजी की जड़ें हिलाकर रख दीं © Getty Images (File Photo)

टेस्ट क्रिकेट को वनडे और टी20 क्रिकेट के मुकाबले धीमा खेल वाला क्रिकेट माना जाता है। लेकिन पिछले डेढ़ दशक से क्रिकेट के इस प्रारूप में तेजी से बदलाव देखने को मिला है। अब टेस्ट क्रिकेट में एक दिन में आराम से 300 से 350 रन बन जाते हैं और अगर कभी बल्लेबाज ज्यादा आतिशी ढंग से बल्लेबाजी करने लगे तो इससे भी तेजी से रन बनने के आसार बन जाते हैं। इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले जा रहे दूसरे क्रिकेट टेस्ट मैच में इंग्लैंड के धुआंधार बल्लेबाज बेन स्टोक्स ने टेस्ट मैच में दूसरा सबसे कम गेंदों में दोहरा शतक लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया। इस तरह उन्होंने भारत के वीरेंद्र सहवाग को तीसरे क्रम पर धकेल दिया। तो आइए जानते हैं किन पांच बल्लेबाजों ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम गेंदों में लगाया दोहरा शतक। ये भी पढ़ें: टेस्ट क्रिकेट का दूसरा सबसे तेज दोहरा शतक जमाने वाले बल्लेबाज बने बेन स्टोक्स

1. नाथन एस्टल के तूफानी 200 रन: सन् 2002  में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच क्राइसचर्च में खेले गए टेस्ट मैच को न्यूजीलैंड के बल्लेबाज नाथन एस्टल के तूफानी 200 के लिए याद किया जाता है। एक वक्त संकट में घिरी नजर आ रही न्यूजीलैंड टीम को चौथी  पारी में जीत के लिए 500 से ज्यादा रनों की दरकार थी। ऐसे में एस्टल ने धमाकेदार बल्लेबाजी की और टेस्ट क्रिकेट का सबसे तेज दोहरा शतक 153 गेंदों में ठोक दिया। देखने वाली बात यह थी कि एस्टल ने अपने दूसरे 100 रन मात्र 39 गेंदों में मुकम्मल किए थे जो आज के हिसाब से टी20 मैचों की बल्लेबाजी स्टाइल  दर्शाती है। एस्टल अंत में 222  रन बनाकर आउट हुए और टीम न्यूजीलैंड 451 रनों पर ऑलआउटहो गई। न्यूजीलैंड जो एक समय करारी हार की कगार पर खड़ी नजर आ  रही  थी अब 68 रनों से मैच हार चुकी थी। एस्टल ने खेल के एक ही दिन में 222 रनों को मुकम्मल किया। आज तक एस्टल के इस रिकॉर्ड को तोड़ा नहीं जा सका है। इंग्लैंड-दक्षिण अफ्रीका दूसरा टेस्ट: टेस्ट मैच के दूसरे दिन इंग्लैंड ने लगाया रनों का अंबार, दक्षिण अफ्रीका 141/2

2. बेन स्टोक्स: दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच न्यूलैंड्स, कैपटाउन में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैमंड के बेन स्टोक्स ने 163  गेंदों में दोहरा शतक लगाकर अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में एक नया मुकाम छू लिया है। बेन स्टोक्स नाथन एस्टल के बाद सबसे कम गेंदों में दोहरा शतक बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। बेन स्टोक्स ने टेस्ट मैच के दूसरे दिन 163 गेंदों में दोहरा शतक लगाया और वह 198 गेंदों में 258 रन बनाकर रन आउट हो गए। स्टोक्स ने अपना तूफानी पारी के दौरान 30 चौके औरर 11 छक्के लगाए। स्टोक्स की तूफानी पारी की बदौलत इंग्लैंड टीम ने डेढ़ ततिदन में लगभग 5 के रन रेट से रन बनाते हुए 629 रन बनाकर अपनी पारी घोषित कर दी। फुल स्कोरकार्ड: दक्षिण अफ्रीका बनाम इंग्लैंड, दूसरा टेस्ट कैपटाउन

3. वीरेंद्र सहवाग: भारत के वीरेंद्र सहवाग ने टेस्ट क्रिकेट में जिस अंदाज में बल्लेबाजी की शायद ही उनसे पहले किसी ने की होगी। उनकी आतिशी बल्लेबाजी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने टेस्ट मैच में अपने तीन दोहरे शतक 100 से ऊपर के स्ट्राइक रेट से बनाए  हैं। सहवाग ने अपना सबसे तेज दोहरा शतक साल 2009-10 में श्रीलंका के खिलाफ लगाया था। सहवाग ने श्रीलंकाई गेंदबाजी आक्रमण की धज्जियां उड़ाते हुए मात्र 168 गेंदों में दोहरा शतक ठोंक दिया था। इसके पहले सहवाग ने 2005-06 में पाकिस्तान के विरुद्ध लाहौर में 182  गेंदों में दोहरा शतक लगाया था और अपनी आतिशी बल्लेबाजी से पूरे विश्व क्रिकेट को अपना मुरीद बनाया था। भारत के वीरेंद्र सहवाग सबसे तेज दोहरा शतक लगाने के मामले में तीसरे स्थान पर हैं।

1999 में टेस्ट मैचों में पर्दापण करने वाले वीरेंद्र सहवाग 2004 तक आते-आते भारत के एक बेहतरीन क्रिकेटर के  रूप में काबिज हो गए। 2004 का पाकिस्तान दौरा सहवाग के क्रिकेटर करियर में यादगार बन गया। भारत ने मुल्तान में खेले गए टेस्ट मैच में पहले  बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया और सहवाग ने टेस्ट मैच के पहले ही दिन धमाकेदार बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया। सहवाग ने पाकिस्तान के विश्व प्रसिद्ध गेंदबाजी आक्रमण जिसमें ओएब अख्तर, समी, रज्जाक, और सकलेन मुश्ताक शामिल थे को दिन में तारे देखने को मजबूर कर दिया। सहवाग ने पहले दिन बल्लेबाजी करते हुए 271 दिनों में 228 रन ठोंक दिए। इस टेस्ट मैच ममें सहवाग ने 222 गेंदों में दोहरा शतक बनाया था। सहवाग अगले दिन बल्लेबाजी के लिए आए और वे 375  गेंदों में 309 रन बनाकर  समी  का शिकार हुए। भारत ने यह टेस्ट एक पारी और 52 रनों से जीत लिया।

भारत के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ साल 2008 में चेन्नई में खेले जा रहे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 540 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा  किया जवाब में खेल के तीसरे दिन के नाबाद 52 रनों से आगे खेलते हुए सहवाग ने 257 रन ठोंक डाले और वह मैच के चौथे दिन 319 रन बनाकर आउट हुए। सहवाग ने इस दौरान दोहरा शतक मात्र194 गेंदों में पूरा किया। सहवाग ने इस दौरान स्टेन, नतिनी, मोर्केल और कैलिस जैसे बेहतरीन गेंदबाजों को जमकर धोया। बाद में यह मैच ड्रॉ हो गया। सहवाग ने एक दिन में दो सौ रन बनाने का कारनामा यह दूसरी बार किया था।

4. हर्षल गिब्स के तूफान के आगे पस्त हुई पाकिस्तानी टीम: दक्षिण अफ्रीका के धुआंधार सलामी बल्लेबाज हर्षल गिब्स ने 2003 में पाकिस्तान के खिलाफ केपटाउन में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच में एक दिन में धुआंधार 228 रन(240 गेंदों) में बनाए और इस दौरान उन्होंने वकार युनुस और सकलेन मुश्ताक जैसे अनुभवी गेंदबाजों की बखिया उधेड़ दी।  गिब्स ने इस टेस्ट मैच में 211 गेंदों में अपना दोहरा शतक पूरा किया था। गिब्स की तूफानी बल्लेबाजी के कारण दक्षिण अफ्रीका ने 620 रनों का  पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया और मैच को एक पारी और 142 रनों के भारी अंतर से जीता।  गिब्स ने अपनी तूफानी पारी के दौरान 29  चौके और 6 छक्के लगाए।  इस  तरह दक्षिण अफ्रीका ने सीरीज 2-0 से अपने नाम कर ली।

5. ब्रैंडन मैक्कुलम: सबसे तेज दोहरा शतक लगाने के मामले में  न्यूजीलैंड टीम के वर्तमान कप्तान ब्रैंडन मैक्कुलम पांचवें स्थान पर हैं। ब्रैंडन ने यह कारनामा साल 2014 में पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज के तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच में मुकम्मल किया था। मैक्कुलम ने बतौर सलामी बल्लेबाज बल्लेबाजी करते हुए 186 गेंदों में 200 रन ठोंक दिए थे और वह अंततः 188 गेंदों में 202 रन बनाकर आउट हुए थे। उन्होंने अपनी इस पारी के दौरान चौकों और छक्कों की झड़ी लगा दी थी। ब्रैंडन ने अपनी इस पारी के दौरान कुल 11 छक्के और 21 चौके लगाए थे। ब्रैंडन की तूफानी पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने पहली पारी में 690 रन बनाए थे और अंततः यह टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था।

इंग्लैंड-दक्षिण अफ्रीका दूसरा टेस्ट: टेस्ट मैच के दूसरे दिन इंग्लैंड ने लगाया रनों का अंबार, दक्षिण अफ्रीका 141/2