Faf du plessis on Sarfraz Ahmen’s racial slur: We can forgive but that doesn’t mean we brush it under the table
Faf du Plessis © Getty Images

पाकिस्तान कप्तान सरफराज अहमद के डरबन में खेले गए पहले वनडे मैच के दौरान दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर एंडिल फेलुकवायो पर की गई नस्लीय टिप्पणी मामले पर प्रोटियाज कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। डु प्लेसिस ने पाक कप्तान की माफी को स्वीकार किया है लेकिन उनका कहना है कि वो मामले को काफी गंभीरता से ले रहे हैं।

ये भी पढ़ें: नस्‍लीय टिप्‍पणी के लिए मुश्किल में फंस सकते हैं सरफराज अहमद

डु प्लेसिस ने कहा, “हमने उसे माफ कर दिया है। उसने माफी मांगी है और जिम्मेदारी ली है। मामला अब हमारे हाथ से बाहर है और आईसीसी इससे निपटेगी। जब आप दक्षिण अफ्रीका आते हैं तो आपको नस्लीय टिप्प्णियों को लेकर काफी सतर्क रहना होता है। मुझे यकीन है उसका वो मतलब नहीं था लेकिन उसने अपने बयान की जिम्मेदारी ली है और हमें देखना होगा कि क्या होता है।”

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान ने आगे कहा, “ये ऐसा मामला है, जिसे बतौर टीम हम हल्के में नहीं लेते है लेकिन उसका तुरंत माफी मांग लेना उसका पछतावा दिखाता है। हम उसे माफ कर सकते हैं लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि हम मामले को दबाने की कोशिश कर रहे हैं।”

एंडिल का पक्ष रखते हुए डु प्लेसिस ने कहा कि अलग भाषा होने की वजह से वो सरफराज की टिप्पणी को समझ नहीं पाया। कप्तान ने कहा, “एंडी [फेहलुकवेओ] का कहना है कि उन्होंने इसे नोटिस भी नहीं किया था और समझ नहीं पाए कि ये वास्तव में उन पर निर्देशित था। मुझे लगता है कि हमें समझ में नहीं आना से मामले पर थोड़ा फर्क पड़ता है। लेकिन ये निश्चित रूप से हमारे साथ सही नहीं है। हम अनुग्रह कर रहे हैं। हम ऑस्ट्रेलिया को छोड़कर सभी को बहुत आसानी से माफ कर देते हैं।”

ये भी पढ़ें: फेहलुकवेओ पर नस्‍लभेदी टिप्‍पणी मामले में सरफराज ने मांगी माफी

गौरतलब है कि नस्लीय नियमों की वजह से दक्षिण अफ्रीका टीम 1970 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से बैन की जा चुकी है। दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड केवल श्वेत खिलाड़ियों वाली टीमों (इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड) के खिलाफ क्रिकेट खेलना चाहता था। और अश्वेत खिलाड़ियों को टीम में जगह नहीं मिलती थी। 20 साल से भी ज्यादा साल तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहने के बाद दक्षिण अफ्रीका टीम ने 1994 में वापसी थी। जिसके बाद से प्रोटियाज टीम में काफी विविधता नजर आती है।