कोलपैक खिलाड़ियों के लिए सीएसए के डायरेक्टर ग्रीम स्मिथ ने दिया बड़ा ऑफर

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के निदेशक ग्रीम स्मिथ ने कहा है कि टीम ऐसे खिलाड़ियों का स्वागत करेगी जो कोलपैक करार को खत्म कर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वापस लौटना चाहते हैं। दक्षिण अफ्रीका के कई क्रिकेट खिलाड़ियों ने कोलपैक करार किए हैं जिसके तहत वह काउंटी क्रिकेट खेलते हैं लेकिन वह अपनी राष्ट्रीय टीम के लिए नहीं खेल सकते।

आफरीदी बोले-ब्रायन लारा को गेंदबाजी करते समय एक ही बात दिमाग में घूमती रहती थी कि कहीं…

ग्रेट ब्रिटेन हालांकि यूरोपियन संघ से अलग हो गया है तो ऐसे में कोलपैक नियम अब लागू नहीं होता। स्मिथ ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए कहा, ‘कोलपैक अंत की कगार पर है और हमारी हमेशा से इच्छा है कि हमारे सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हमारे सिस्टम में हों।’

उन्होंने कहा, ‘यह खिलाड़ी पर है कि वह सिस्टम में वापसी करे और अपने करियर को लेकर फैसला ले। हमारे नजरिए से हम सभी खिलाड़ियों से अपील करते हैं कि वे यहां घरेलू क्रिकेट खेलें और अपने आप को राष्ट्रीय टीम में शामिल होने का मौका दें।’

ये है कोलपैक डील 

कोलपैक डील साल 2003 में प्रभाव में आई। स्लोवाकिया के हैंडबॉल के खिलाड़ी मारो कोलपाक को जर्मन के क्‍लब से रिलीज कर दिया गया था। कारण बताया गया कि नॉन यूरोपीयन खिलाड़ी के कोटे की सीमा के कारण ये निर्णय लिया गया है। उन्‍हें लगा कि ये उनके साथ अन्‍यास है। लिहाजा उन्‍होंने अदालत का दरवाजा खटखटाया। यूरोप की अदालत ने उनके पक्ष में फैसला दिया।

‘2019 वर्ल्ड कप फाइनल में स्टोक्स को फील्ड में बाधा पहुंचाने के कारण आउट देना चाहिए था’

अदालत ने कहा अगर खिलाड़ी अपने देश के लिए खेलने के अधिकार को छोड़ दे तो वो कोलपैक डील के अंतर्गत यूरोप में खेलने के योग्‍य है। इस डील के तहत खिलाड़ी को खेलने के लिए केवल वर्किंग वीजा चाहिए।