भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने इंग्लैंड के खिलाफ नॉटिंघम टेस्ट के दूसरे दिन आउट होने के बावजूद शॉर्ट गेंद पर पुल शॉट खेलने के अपने फैसले का समर्थन किया।

ट्रेंट ब्रिज में खेले जा रहे मैच के दूसरे दिन रोहित 107 गेंदो पर 36 रनों की संघर्षपूर्ण पारी खेलने के बाद ओली रॉबिनसन के खिलाफ पुल शॉट मारने की कोशिश में सैम कर्रन के हाथों कैच आउट हुए।

दिन का खेल खत्म होने के बाद रोहित ने कहा, “जैसा कि आपने कहा ये मेरा शॉट था, इसलिए मुझे अपने शॉट खेलने होंगे, जैसा कि हमने पहले घंटे में देखा, हमें कोई खराब गेंद नहीं मिली और गेंदबाजों ने काफी अनुशासन के साथ गेंदबाजी की।”

उन्होंने कहा, “इसलिए जब आपको ऐसी गेंद मिलती है तो आपको फायदा उठाना होता है, आपको उसके लिए गेंदबाज को सजा देनी होती है। जाहिर है जब ऐसा कुछ (विकेट) खेल के खत्म होने के समय होता है तो आप निराश महसूस करते हैं और मैं भी यही महसूस कर रहा हूं।”

केएल राहुल के साथ रोहित की शानदार साझेदारी की मदद से भारतीय टीम ने नॉटिंघम टेस्ट के दूसरे दिन के पहले सेशन में जेम्स एंडरसन की अगुवाई वाले पेस अटैक के खिलाफ चार विकेट के नुकसान पर 125 रन का स्कोर बनाया था। हालांकि बारिश की वजह से दूसरे दिन 46.4 ओवर ही खेले जा सके।

स्टंप के बाद रोहित ने कहा, “आपको अपने शॉट खेलने के लिए तैयार रहना होगा क्योंकि उनके गेंदबाज बेहद अनुशासित हैं, आपको ज्यादा कुछ नहीं मिलता। इसलिए जो गेंद आपके शॉट के लिए हैं, आपको उन्हें खेलना होगा। मैं और केएल जब बल्लेबाजी कर रहे थे, वो उसी प्रक्रिया पर काम कर रहे थे।”

उन्होंने आगे कहा, “बात कुछ एक शॉट लगाने की है और हम उससे बचने नहीं वाले, हम वो शॉट्स खेलेंगे। अगर ऐसा करते हुए आप आउट जाते है तो हां, आप निराश होते हैं लेकिन आपको पता है कि उस गेंद पर आउट होने में और अगर गेंद फील्डर से थोड़ा दूर गिरतनी तो शॉट लगने दोनों में थोड़ा ही अंतर है।”