IPL 2019, CSK vs KXIP: Faf du Plessis, MS Dhoni and Harbhajan singh star as CSK beat KXIP by 22 runs
FAF du Plessis, MS Dhoni and Harbhajan Singh@ IANS

चेन्नई की टीम की टूर्नामेंट में एक और जीत दर्ज करने में कामयाब रही। पिछले मैच में मुंबई से हारने के बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पंजाब के खिलाफ रणनीति बनाई और वो सही साबित हुआ। इस मैच को चेन्नई के हक में मोड़ने में क्या रहे अहम पल चलिए, डालते हैं नजर।

डु प्लेसिस का अर्धशतक

चेन्नई के लिए इस सीजन में पहला मैच खेलने उतरे फाफ डु प्लेसिस ने शानदार अर्धशतक जमाया। 38 गेंद पर 54 रन की पारी ने टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई। डु प्लेसिस ने 33 गेंद पर 4 छक्के और दो चौके की मदद से अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की। उन्होंने पहले विकेट के लिए वॉटसन के साथ मिलकर 56 रन जोड़े जबकि सुरेश रैना के साथ दूसरे विकेट के लिए भी 44 रन की अहम साझेदारी निभाई। चेन्नई की अच्छी शुरुआत का नतीजा था कि कप्तान ने आखिरी में खुलकर शॉट्स लगाते हुए स्कोर 160 रन तक पहुंचाया।

महेंद्र सिंह धोनी की 37 रन की पारी

हमेशा की तरह ही कप्तान धोनी ने एक बार फिर से उपयोगी पारी खेलते हुए टीम को ऐसे स्कोर तक पहुंचाया जहां से गेंदबाज लड़ सकते थे। धोनी ने 19वें ओवर में एक छक्के और दो चौके लगाते हुए 19 रन बनाए जबकि आखिरी ओवर में रायडू के साथ मिलकर 14 रन हासिल किए। इन दो ओवर्स में बनाए रन ही पंजाब की टीम पर भारी पड़े।

हरभजन सिंह की शानदार वापसी

पंजाब के खिलाफ कप्तान धोनी ने हरभजन सिंह को दूसरे ओवर में गेंदबाजी का जिम्मा सौंपा। उन्होंने इस एक ओवर में दो विकेट चटकाए और एक भी रन नहीं दिया। चेन्नई के लिए खतरा साबित होने वाले क्रिस गेल और शानदार फॉर्म में चल रहे मयंक अग्रवाल का विकेट इसमें शामिल था। इन दो विकेट ने मैच पर शुरुआत में ही चेन्नई की पकड़ मजबूत कर दी।

राहुल और सरफराज का अर्धशतक

पंजाब की टीम के तरफ से दो अर्धशतक लगे, केएल राहुल और सरफराज खान ने अपनी-अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की लेकिन यह टीम के काम नहीं आया। मैदान पर नजरें जमाने के बाद राहुल 55 रन बनाकर आउट हो गए जबकि सरफराज आखिरी ओवर में 67 रन पर अपना विकेट गंवा बैठे। ये दो बल्लेबाज अगर टिक जाते तो मैच का नतीजा पंजाब के हक में भी जा सकता था।

स्कॉट कुग्‍गेलैन का आखिरी ओवर

टूर्नामेंट में डेब्यू कर रहे स्कॉट को कप्तान धोनी ने आखिरी ओवर में गेंदबाजी करने बुलाया। इसकी प्लानिंग उन्होंने पहले से ही कर रखी थी क्योंकि बाकी गेंदबाजों के ओवर का कोटा खत्म हो चुका था। पंजाब को 6 गेंद पर 26 रन चाहिए थे लेकिन स्कॉट ने सिर्फ तीन रन दिए और सरफराज का अहम विकेट भी हासिल किया।