शेन वॉर्न  © Getty Images
शेन वॉर्न © Getty Images

पिछले दिनों भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने टीम इंडिया के कोच पद के लिए नोटिफिकेशन(अधिसूचना)  जारी किया था। इस पद के लिए दुनिया भर से क्रिकेटरों ने आवेदन किया। इस पद के लिए छांटे गए 6 नामों में पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का नाम सबसे आगे चल रहा है। लेकिन इस बीच गौर करने वाली बात ये है कि ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉर्न ने इस पद के लिए अपना आवेदन नहीं भेजा। इसका कारण खुद वॉर्न ने बताया है।  एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में वॉर्न ने कहा, “मैं बहुत महंगा हूं, मुझे नहीं लगता कि बतौर कोच मुझे भारत ‘वहन’ कर सकता है। विराट कोहली और मैं एक अच्छे साझेदार हो सकते हैं। लेकिन जैसा कि मैंने कहा, मैं बहुत- बहुत महंगा हूं।”

जब युवाओं को परामर्श देना हो तो वार्न कभी भी पीछे नहीं हटते। जब वह आईपीएल में 2008, 2009, 2010 और 2011 में राजस्थान रॉयल्स का अंग थे तो कई युवाओं को उन्होंने निखारा। इसी बीच वॉर्न ने बताया कि उनके तीनों बच्चों(बेटा जैक्सन, बेटियां ब्रूक और सुमेर) ने यह जानने के लिए मैसेज किया कि मैं शनिवार को लंदन में हुए आतंकी हमले के बाद ठीक हूं कि नहीं। उन्हें यह जानकर खुशी हुई कि उनके पिता शेन वॉर्न लंदन में नहीं बल्कि बर्मिंघम में हैं। जहां आज ऑस्ट्रेलिया बांग्लादेश के खिलाफ खेलेगी। [ये भी पढ़ें: चैंपियन बनने के बाद ट्रॉफी की जगह मिली गाय!]

शेन वॉर्न दुनिया के सबसे बेहतरीन स्पिनरों में से एक हैं। उन्हीं के नाम बॉल ऑफ द सेंचुरी हैं। उन्होंने करीब एक दशक तक विश्व क्रिकेट में बल्लेबाजों की नाक पर दम किया। वॉर्न के नाम टेस्ट क्रिकेट में 708 विकेट दर्ज हैं। वह इस मामले में श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन के बाद दूसरे नंबर पर हैं।