Steven Smith, David Warner’s ‘PR Campaign’ all over at MCG during Boxing Day Test
Steven Smith, David Warner (Getty Images)

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन मेजबान देश के बैन खिलाड़ियों स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर की ‘पीआर कैंपेन’ का उदाहरण देखने को मिला।

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक, मैच में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी के दौरान जब किसी भी वजह से रुकावट आती। इन दोनों खिलाड़ियों के कहे गए शब्द स्क्रीन पर दिखाई और सुनाई देते।

स्मिथ और वार्नर का वापसी पर खुले दिल से स्वागत होगा : फिंच

ऑस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत बिना किसी विकेट के नुकसान के आठ रनों के साथ की थी। ऑस्ट्रेलियाई पारी शुरू हुई और इसी बीच ईशांत शर्मा ने एक नो बॉल फेंकी। इस समय एक विज्ञापन आया। ‘मैं गहरे अंधकार में था’

ईशांत ने जब फिंच को मयंक अग्रवाल के हाथों कैच कराया उसके बाद एक और विज्ञापन आया। ‘इस वक्त ने मुझे बताया कि लोग किस स्थिति से गुजरते हैं और उन्हें मुश्किल हालात से लड़ने के लिए किस बात की जरूरत होती है।’

‘स्मिथ, वार्नर की टी20 लीग में फॉर्म विश्व कप चयन के लिए अहम’

ईशांत ने बुमराह की गेंद पर हैरिस का कैच पकड़ उन्हें पवेलियन भेजा। इस समय विज्ञापन आया, ‘ये सामने आने की बात है साथ ही ईमानदार रहने और जिम्मेदारी लेने की बात है।’

रवींद्र जडेजा के उस्मान ख्वाजा को आउट करने के बाद विज्ञापन आया, ‘यहां (सदरलैंड) इस क्लब में वापस आकर अच्छा लगा। मैं प्रतिद्वंद्विता में रहना चाहता हूं। ये सिर्फ आपके और गेंदबाज के बीच की बात है।’

स्‍टीवन स्मिथ को मिली बांग्‍लादेश प्रीमियर लीग में खेलने की अनुमति

शॉर्न मार्श के आउट होते ही लंच की घोषणा कर दी गई और इस समय विज्ञापन था, ‘मैंने निश्चित तौर पर काफी मुश्किल दिन गुजारे हैं, लेकिन आलोचना होना ठीक है।’

दूसरे सेशन में ट्रेविस हेड के आउट होने के बाद विज्ञापन था, ‘हर कोई गलतियां करता है। ये मसला है कि आप किस तरह से उस पर प्रतिक्रिया करते हो, ये काफी अहम है।’

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा, वार्नर पर आए बयान से वापसी पर असर नहीं

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी के दौरान लगातार स्मिथ का ये बयान लगातार आता रहा। एक अन्य विज्ञापन था, ‘मैं वापसी करना चाहता हूं, पहले से बेहतर होकर।’

गौरतलब है कि स्मिथ, वार्नर को इसी साल मार्च में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में बॉल टैंपरिंग के कारण क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने एक-एक साल के लिए बैन कर दिया था। इनके साथ कैमरून बैनक्रॉफ्ट भी शामिल थे। सीए ने बैनक्रॉफ्ट पर नौ महीने का बैन लगाया था जो इसी महीने समाप्त हो रहा है।