भारत बनाम बांग्लादेश © Getty Images
भारत बनाम बांग्लादेश © Getty Images

23 मार्च 2016 को बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम में भारत और बांग्लादेश के बीच खेला गया रोमांचक मैच सभी को याद होगा। जब 20वें ओवर में महेंद्र सिंह धोनी के एक फैसले ने मैच का रुख बदल दिया। हार्दिक पांड्या का वह धमाकेदार ओवर भला कौन भूल सकता है, जिसकी वजह से भारत ने बांग्लादेश को एक रन से हराया था। आज चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के दूसरे सेमीफाइनल में एक बार फिर वही रोमांच और उत्साह देखने को मिलेगा, जब भारत और बांग्लादेश आईसीसी के मंच पर एक दूसरे से भिड़ेंगी। बर्मिंघम में होने वाले इस मैच की विजेता टीम 18 जून को ओवल में पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल मैच खेलेगी। टूर्नामेंट में अब तक भारत का सफर बेहतरीन रहा है, टीम इंडिया ने 3 में से 2 लीग मैच जीते हैं। वहीं बांग्लादेश की बात करें तो वह केवल एक लीग मैच जीता है। साथ ही अभ्यास मैच में भारत पहले ही बांग्लादेश को हरा चुका है इसलिए बांग्लादेश के लिए ये मैच काफी मुश्किल मैच होने वाला है। आइए दोनों टीमों की रणनीति और टीम कॉम्बिनेशन पर एक नजर डालते हैं।

बड़े टूर्नामेंट में जीतना जानती है टीम इंडिया: टीम इंडिया एक ऐसी टीम है जिसे बड़े टूर्नामेंट खेलना और उनमें जीत दर्ज करना आता है। जहां साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड जैसी टीमें द्विपक्षीय सीरीज में अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद आईसीसी टूर्नामेंट में दबाव ना झेल पाने की वजह से हार जाती है, वहीं टीम इंडिया हमेशा से ही दबाव में अच्छा खेल दिखाती है। अगर हम साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत के पिछले मैच पर नजर डालें तो ये बात साफ हो जाएगी। इस मैच में दोनों टीमों पर टूर्नामेंट से बाहर होने का दबाव था लेकिन भारत ने ऐसी स्थिति में भी बेहतरीन क्रिकेट का प्रदर्शन किया और प्रोटियाज टीम को हरा सेमीफाइनल में जगह पक्की की। [ये भी पढ़ें: मैच के पहले ही विराट कोहली ने दिया संकेत कि वे किन 11 खिलाड़ियों के साथ उतरेंगे]

भारतीय टीम के पास शिखर धवनरोहित शर्मा जैसी सफल सलामी जोड़ी है। इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि ये दोनों खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में भारत की ओर से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। धवन और रोहित ने हर मैच में भारत को एक मजबूत शुरुआत दिलाई है। जिसका फायदा उठाने के लिए टीम में विराट कोहली, युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी जैसे दिग्गज बल्लेबाज मौजूद हैं। साथ ही टीम इंडिया के पास केदार जाधव और हार्दिक पांड्या जैसे निचले क्रम के बल्लेबाज हैं जो आखिरी के ओवरों में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हैं। देखा जाय तो भारत के पास ऐसा मजबूत बल्लेबाजी क्रम है जिसके सामने विपक्षी टीम के गेंदबाज फीके पड़ जाते हैं।

अगर गेंदबाजी की बात करें तो यहां भी टीम इंडिया का पलड़ा भारी है। टीम इंडिया के पास भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह जैसे चार विश्व स्तरीय तेज गेंदबाज हैं। वहीं भारत का स्पिन मोर्चा रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन के साथ तैयार है। हालांकि कोहली ने अश्विन को पहले दो लीग मैचों से बाहर रखा था लेकिन जब साउथ अफ्रीका के खिलाफ मैच में अश्विन को टीम में आने का मौका मिला तो उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। अश्विन के टीम में आने से स्पिन पक्ष और ज्यादा मजबूत हो जाता है।

बड़ी टीमों को हराने का माद्दा रखती है बांग्लादेश: बांग्लादेश टीम भले ही वनडे रैंकिंग में भारत से कहीं पीछे हो लेकिन इस टीम ने भारत के साथ साथ पाकिस्तान, इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका जैसी टीमों को हराया है। बांग्लादेश के पास तमीम इकबाल, सौम्य सरकार, इमरुल काऐस और सब्बीर रहमान जैसे शीर्ष क्रम बल्लेबाज हैं। वहीं मध्य क्रम को संभालने के लिए मुशफिकुर रहीम के साथ शाकिब अल हसन जैसे अनुभवी खिलाड़ी टीम में मौजूद हैं। इसके साथ ही महमदुल्लाह जैसा धमाकेदार बल्लेबाज भी बांग्लादेश के पास है। महमदुल्लाह और शाकिब ने न्यूजीलैंड के खिलाफ नॉक आउट मुकाबले में शानदार शतक जड़ा था। बांग्लादेश का बल्लेबाजी क्रम भी काफी मजबूत है। [ये भी पढ़ें: भारत के खिलाफ मैच से पहले मशरफे मुर्तजा ने दिया बड़ा बयान]

बल्लेबाजी के साथ साथ बांग्लादेश टीम के गेंदबाजी पक्ष में पिछले सालों में काफी बदलाव आया है। बांग्लादेश टीम के पास मुश्फिकुर रहमान जैसा शानदार गेंदबाज तो है ही, साथ में कप्तान मशरफे मुर्तजा और शाकिब अल हसन जैसे अनुभवी गेंदबाज भी हैं। वहीं न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में तीन विकेट लेने वाले मोसादेक हुसैन भी बढ़िया गेंदबाजी कर रहे हैं। तेज गेंदबाजी की बात करें तो बांग्लादेश के पास तस्कीन अहमद जैसा खिलाड़ी है जो अपने दम पर मैच बदलने का माद्दा रखता है। भारत किसी भी सूरत में बांग्लादेश को कमजोर समझने की गलती नहीं करेगा।

पिछले मुकाबले: भारत ने साल 2015 में आखिरी बार बांग्लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज खेली थी। बांग्लादेश में हुई इस सीरीज में भारत को 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था। इस दौरे पर बांग्लादेशी गेंदबाजों खासकर मुशफिकुर रहमान ने भारतीय बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था। वहीं अगर आईसीसी टूर्नामेंट की बात करें तो यहां भारत का पलड़ा भारी दिखता है। 1988 से लेकर 2014 तक एशिया कप में ये दो टीमें कुल 10 बार भिड़ीं है जिसमें से 9 बार टीम इंडिया ने जीत हासिल की है। आईसीसी वनडे विश्व कप में भारत और बांग्लादेश ने आज तक केवल तीन मैच खेले हैं। यहां भी टीम इंडिया दो मैच में जीत दर्ज कर बांग्लादेश से आगे है। इन आंकड़ों से ये बात साफ हो जाती है कि बांग्लादेश बड़े टूर्नामेंट में भारत को हराने में असफल रही है। [ये भी पढ़ें: ‘भारत के खिलाफ बांग्लादेश निश्चित योजना से खेला तो जीतेगा’]

भारतीय टीम के संभावित एकादश: शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली (कप्तान), युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी, हार्दिक पांड्या, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह।

बांग्लादेश की संभावित एकादश: तमीम इकबाल, सौम्या सरकार, इमरूल कायेस, मुशफिकर रहीम, शाकिब अल हसन, महमूदुल्लाह, मोसादिक हुसैन, मशरफे मोर्तजा, तस्किन अहमद, रुबेल हुसैन, मुस्तफ़िजुर रहमान।