IPL 2019: Royal Challengers Bangalore look to end drought of trophy

धुरंधर खिलाड़ियों से सजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम पिछले 11 सीजन से एक अदद खिताब जीतने को तरस रही है। विराट कोहली का इरादा 12वें सीजन में इंडियन प्रीमियर लीग की चमचमाती ट्रॉफी को अपने नाम करने का होगा। टीम के नाम टूर्नामेंट का सबसे बड़ा स्कोर है तो सबसे कम रन पर सिमटने का शर्मनाक रिकॉर्ड भी इसी टीम के नाम पर है।

टीम ने नीलामी में विंडीज युवा तूफान शिमरोन हेटमेयर पर दांव लगाया साथ ही घरेलू क्रिकेट में दम दिखाने वाली युवा जोश पर पैसा लगाना बेहतर समझा।

कप्तान विराट कोहली

विश्व क्रिकेट में धमाल मचाने वाले विराट कोहली के बल्ले का हल्ला आईपीएल में भी खूब मचा है। साल 2008 में खेले गए पहले सीजन से अब तक वह टीम के साथ हैं। बतौर बल्लेबाज उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया है लेकिन कप्तानी में उनको निराशा हाथ लगी है। विश्व क्रिकेट में धुंआधार प्रदर्शन करने वाले उनके साथी रोहित शर्मा के साथ उनकी तुलना की जाती है। आईपीएल में रोहित की टीम के नाम तीन खिताबी जीत हैं तो कोहली एक बार भी इस ट्रॉफी को नहीं जीत पाए हैं। (पढें: चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाड़ियों को नहीं देना होगा यो-यो टेस्ट)

कोच : गैरी कर्स्टन

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व दिग्गज गैरी कर्स्टन को डेनियल विटोरी की जगह टीम का मुख्य कोच बनाया गया है। पिछले सीजन में वह टीम के साथ बतौर बल्लेबाजी कोच काम कर रहे थे। भारतीय टीम ने साल 2011 में गैरी की कोचिंग में ही आईसीसी विश्व कप का खिताब जीता था। विराट भी विजेता टीम का हिस्सा थे। बेहतर नतीजे के लिए कोचिंग स्टाफ में बदलाव किया गया है।

टीम :

विराट कोहली (कप्तान), एबी डिविलियर्स, मिलिंद कुमार, हिम्मत सिंह, शिमरोन हेटमेयर, पार्थिव पटेल, हेनरिक क्लासेन, मोइन अली, कोलिन डी ग्रांडहोम, मार्कस स्टोइनिस, प्रयास रे बर्मन, अक्षदीप नाथ, गुरकीरत सिंह, शिवम दुबे, युजवेंद्र चहल, वॉशिंगटन सुंदर, पवन नेगी, कुलवंत खेजरोलिया, उमेश यादव, नवदीप सैनी, नाथन कुल्टर नाइल, मोहम्मद सिराज, टिम साउदी।

टीम का आईपीएल में सफर

साल 2009, 2011 और 2016 में टीम फाइनल तक पहुंचने में कामयाब हुई लेकिन ट्रॉफी नहीं जीत पाई। साल 2008 में सातवें, 2010 में तीसरे, 2012 और 2013 में पांचवें, 2014 में सातवें 2015 में तीसरे, 2017 में आठवें जबकि पिछले साल टीम छठे स्थान पर रही थी।

टीम के अहम खिलाड़ी

इस टीम की सबसे बड़ी ताकत कप्तान विराट कोहली और मिस्टर 360 यानी एबी डिविलियर्स हैं। इनसे हर सीजन में टीम को रन की उम्मीद रहती है। इनका बल्ला भी कभी कभार ही धोखा देता है वर्ना तो रनों की बरसात जारी रहती है।

उमेश यादव पिछले सीजन में बेहद ही शानदार लय में दिखे थे। मुंबई के खिलाफ पहले ही ओवर में दो लगातार विकेट हो या फिर पंजाब के खिलाफ एक ओवर में तीन विकेट उमेश ने रफ्तार के साथ लाइन लेंथ भी कमाल रखी थी। कप्तान कोहली के चहेते युजवेंद्र चहल टीम के सबसे कारगर हथियार हैं। अहम मौकों पर विकेट चटकाने वाले चहल की भूमिका इस बार भी अहम रहने वाली है।

मार्कस स्टोइनिस उम्दा ऑलराउंडर हैं। गेंदबाजी और बल्लेबाजी में वह टीम की जीत में अहम भूमिका अदा करते हैं। आरसीबी से जुड़ने वाले इस ऑलराउंडर पर सबकी नजर रहेगी।

पिछला सीजन

आरसीबी की टीम पिछली बार टूर्नामेंट में छठे स्थान पर रही थी। 14 मैच खेलकर टीम महज 6 मैच ही जीत पाई थी। प्लेऑफ में उसके पहुंचने की उम्मीद राजस्थान रॉयल्स से आखिरी मुकाबला हारकर खत्म हुई थी।

नए खिलाड़ी

ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर मार्कस स्टोइनिस इस साल आरसीबी के लिए खेलते नजर आएंगे, किंग्स 11 पंजाब ने इस साल उनको रिलीज कर दिया था। विंडीज से पावर हिटर शिमरोन हेटमेयर पर भी नजर रहेगी। तो वहीं 5 करोड़ का दांव लगाकर टीम में शामिल किए गए शिवम दूबे से भी काफी उम्मीद होगी।

शिमरोन हेटमेयर, शिवम दूबे, गुरकीरत मान, देवदत्त पडीकल्ल, हेनरिक क्लासेन, हिम्मत सिंह, मिलिंद कुमार, प्रयास राय बर्मन, अक्षदीप नाथ

2019 आईपीएल में उम्मीद 

इस सीजन में टीम से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है, वजह कोच गैरी माने जा रहे हैं। गैरी की प्लेनिंग और कोहली – डिविलियर्स जैसे अनुभवी खिलाड़ी टीम के खिताबी जीत का सूखा खत्म कर सकते हैं।