दिल्ली डेयरडेविल्स  © IANS
दिल्ली डेयरडेविल्स © IANS

पिछले तीन सालों में खराब प्रदर्शन के बाद काफी आलोचनाएं झेल चुकी दिल्ली डेयरडेविल्स टीम ने अपनी कमियों को पाटने के लिए इस टूर्नामेंट में खिलाड़ियों की कुछ अलग ढंग से खरीदारी की है। आईपीएल- 9 में दिल्ली टीम के अधिकतर चेहरे युवा हैं और इन युवाओं की फौज के दम पर क्या दिल्ली टीम अपनी खोई हुई प्रतिष्ठा प्राप्त कर पाएगी? ये सवाल जितना तल्ख है उतना ही दिल्ली टीम के मालिकों के लिए गंभीर भी। पिछले सीजनों में पानी की तरह पैसा बहाने के बावजूद दिल्ली टीम ने तीन सीजनों में नौंवीं, आठवीं और सातवीं रैंक हासिल की है। क्या डुमिनी जो आजकल जबरदस्त फॉर्म में हैं वह युवाओं की गैंग को कुछ हासिल करने के लिए प्रेरित कर पाएंगे? या फिर से दिल्ली टीम का वही हाल होगा। दिल्ली डेयरडेविल्स आईपीएल-9 का अपना अभियान 10 अप्रैल से कोलकाता के खिलाफ शुरू करने जा रही है। सितारों से सजी कोलकाता की टीम के सामने दिल्ली डेयरडेविल्स किन 11 खिलाड़ियों के साथ मैदान पर उतरेगी। आइए जानते हैं। ये भी पढ़ें: IPL 2016: दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ कोलकाता नाइट राइडर्स की संभावित अंतिम एकादश(XI)

शीर्ष क्रम बल्लेबाजी: हाल ही में संपन्न हुए विश्व कप टी20 में जबरदस्त बल्लेबाजी करने वाले बाएं हाथ के बल्लेबाज क्वींटन डी कॉक पर दिल्ली टीम को कुछ उसी अंदाज में शुरुआत देने की जिम्मेदारी होगी। डी कॉक ने विश्व कप टी20 में एक बेहतरीन स्ट्राइक रेट के साथ चार मैचों में 153 रन मुकम्मल किए थे। साथ ही उन्होंने इस दौरान एक अर्धशतक भी बनाया था। ऐसे में ये तो तय है कि डी कॉक आईपीएल में दूसरी टीमों के लिए बतौर सलामी बल्लेबाज सिर दर्द साबित हो सकते हैं। वहीं उनके साथ ओपनिंग में भारतीय अंडर- 19 के स्टार बल्लेबाज रिषभ पंत को मौका दिया जा सकता है। पंत ने आईसीसी अंडर- 19 विश्व कप में जबरदस्त बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया था और सबसे कम गेंदों में अर्धशतक भी मुकम्मल किया था। जाहिर है दिल्ली टीम इस युवा बल्लेबाज की प्रतिभा का जमकर इस्तेमाल करते हुए डी कॉक का जोड़ीदार बनाना चाहेगी। तीसरे क्रम की जिम्मेदारी मयंक अग्रवाल को सौंपी जा सकती है। भले ही पिछले सीजनों में मयंक औसत के हिसाब से ज्यादा सफल ना हुए हों, लेकिन हिटिंग के मामले में वह बहुत आगे हैं। ऐसे में वह क्या कमाल दिखा पाते हैं ये देखना दिलचस्प होगा।

मध्यक्रम बल्लेबाजी: मध्यक्रम की जिम्मेदारी अनुभवी बल्लेबाज जेपी डुमिनी के कंधों पर होगी। डुमिनी को हाल ही में संपन्न हुए विश्व कप टी20 में वैसे तो बहुत कम मौकों पर बल्लेबाजी करने का मौका मिला, लेकिन जब भी उन्हें मौका मिला उन्होंने उसे जमकर भुनाया। जाहिर है वह इसी तरह के प्रदर्शन के साथ आईपीएल की शुरुआत करना चाहेंगे। डुमिनी लंबे समय से दिल्ली डेयरडेविल्स से जुड़े हुए हैं, लेकिन उन्होंने अधिकतर मौकों पर दिल्ली को हारते ही देखा है। ऐसे में वह इस यंग ब्रिगेड के सहारे टीम में नई जान भरने को लेकर उद्यत हैं। वहीं पांचवें नंबर पर टीम की नैय्या संजू सैंपसन पार लगाएंगे। संजू मध्यक्रम के अच्छे बल्लेबाज हैं, लेकिन पिछला सीजन उनके लिए कुछ खास नहीं रहा था और उन्होंने कुल एक अर्धशतक मुकम्मल किया था। ऐसे में वह पिछले सीजन की कमी को इस सीजन में जाहिर तौर पर पाटना चाहेंगे और दिल्ली टीम के एक पिलर के रूप में अपने आपको साबित करना चाहेंगे।

ऑलराउंडर्स: टीम में छठवें नंबर पर अगर बल्लेबाजी की बात आती है तो सबसे पहले क्रिस मॉरिस का नाम दिमाग में कूदता है। मॉरिस ने आईपीएल के पिछले सीजन में निचले क्रम पर अच्छी बल्लेबाजी की थी और 165 के ऊपर के स्ट्राइक रेट से रन बनाए थे। इस दौरान वह 5 मौको पर नॉट आउट भी रहे थे। यही नहीं उन्होंने गेंदों से भी जबरदस्त प्रदर्शन किया था और 11 मैचों में 13 विकेट निकाले थे। यही नहीं इस दौरान उनका इकॉनमी रेट भी 7.40 का रहा था। जाहिर है एक बार फिर से वह अपने चमत्कारी प्रदर्शन से विपक्षी टीमों को मुंह तोड़ जवाब देना चाहेंगे। वहीं सातवें नंबर पर दिल्ली के पास सबसे जबरदस्त खिलाड़ी है और वह हैं वेस्टइंडीज के हरफनमौला खिलाड़ी  कार्लोस ब्रेथवेट। ब्रेथवेट ने हाल में संपन्न हुए टी20 विश्व कप के फाइनल मुकाबले में अंतिम ओवरों की चार गेंदों पर चार छक्के जड़ते हुए वेस्टइंडीज को एक हारे हुए मुकाबले में जितवा दिया था। ऐसे में ब्रेथवेट के होते हुए दिल्ली डेयरडेविल्स का निचला मध्यक्रम बेहद मजबूत है इसमें कोई दो राय नहीं है। ब्रेथवेट ने इसी मैच में 23 रन देकर 3 विकेट भी लिए थे जो बताता है कि वह गेंद और बैट दोनों से अच्छा प्रदर्शन करने में माहिर हैं।

गेंदबाजी: टीम की तेज गेंदबाजी की अगुआई अनुभवी तेज गेंदबाज जहीर खान करेंगे। भले ही जहीर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से विदाई लिए एक साल बीत गया हो, लेकिन उन्होंने इस दौरान जमकर प्रेक्टिश की है और ये बताता है कि उनसे पार पाना विश्व के किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं होने वाला और पहले मैच में जहीर अपना खौंफ बरपाते हुए अपनी टीम को जबरदस्त मनोबल से भर देना चाहेंगे। जहीर का दूसरे छोर से साथ मोहम्मद शमी देंगे। शमी भले ही लंबे समय से चोट के कारण क्रिकेट से बाहर रहे हों, लेकिन अगर उन्होंने एक बार लय पकड़ ली तो विपक्षी बल्लेबाजों के लिए वह मुश्किलें पैदा कर सकते हैं। शमी आईसीसी विश्व कप 2015 में भारतीय टीम की ओर से दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे थे। ऐसे में वह अपनी वापसी भी उसी अंदाज में करना चाहेंगे। चूंकि यह मैच कोलकाता में खेला जा रहा है ऐसे में अनुभवी स्पिन गेंदबाज अमित मिश्रा का रोल अहम हो सकता है। मिश्रा लेग स्पिनर हैं और उन्होंने कई मौकों पर आईपीएल में अपना जादू बिखेरा है और अगर कोलकाता की पिच पर उनकी गेंदों में घुमाव मिला तो वह विपक्षी टीम में तबाही ला सकते हैं। वहीं दूसरे स्पिनर के रूप में दिल्ली टीम पवन नेगी को मौका दे सकती है। गौरतलब है कि इस सीजन में नेगी को दिल्ली टीम ने सबसे ज्यादा रुपया देकर खरीदा है। नेगी बैट और गेंद दोनों से बढ़िया प्रदर्शन करने में माहिर हैं और कोलकाता की घूमती हुई पिच को देखते हुए उन्हें टीम में मौका दिया जा सकता है।

दिल्ली डेयरडेविल्स(संभावित अंतिम एकादश): क्वींटन डी कॉक, रिषभ पंत, मयंक अग्रवाल, जे पी डुमिनी, संजू सैंपसन, क्रिस मॉरिस, कैरोल बर्थवेट, पवन नेगी, जहीर खान, मोहम्मद शमी, अमित मिश्रा।

दिल्ली डेयरडेविल्स(फुल स्क्वाड): जहीर खान, मयंक अग्रवाल, खलील अहमद, सैम बिलिंग्स,  कार्लोस ब्रेथवेट, नाथन कूल्टर नाइल्स, क्वींटन डी कॉक, जे पी डुमिनी, अखिल हेरवाडकर, इमरान ताहिर, श्रेयस अय्यर, महिपाल लॉमरर, चामा मिलिंद, अमित मिश्रा, मोहम्मद शमी, क्रिस मॉरिस, शहबाज नदीम, करुन नायर, पवन नेगी, रिषभ पंत, जोएल पेरिस, प्रत्युष सिंह, संजू सैंपसन, पवन सुयल, जयंत यादव।