Team India’s 6 famous test wins in England

टेस्ट की नंबर वन भारतीय टीम कप्तान विराट कोहली की अगुवाई में इंग्लैंड में जीत का परचम लहराने के इरादे से पहुंची है। मेजबान पर जीत दर्ज करना इतना आसान नहीं पर टीम इंडिया का पलड़ा भारी जरूर है। पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के शुरू होने से पहले भारतीय टीम द्वारा इंग्लैंड में दर्ज की गई उन छह यादगार जीत पर नजर डालते हैं जिससे यहां आने वाली हर भारतीय टीम प्रेरणा लेती है।

1971 में बी.चंद्रशेखर की फिरकी पर नाचे थे अंग्रेज

साल 1971 की सीरीज भारतीय टीम के लिए यादगार है। भारत ने तीन मैचों की सीरीज को 1-0 से अपने नाम की थी। लॉड्स और मैनचेस्टर का मुकाबला ड्रॉ करने के बाद भारत ने ओवर में 4 विकेट से जीत दर्ज कर इतिहास रचा था। अजीत वाडेकर की कप्तानी वाली टीम ने पहली पारी में इंग्लैंड को 355 पर ऑल आउट करने के बाद 284 रन बनाए थे। दूसरी पारी में बीएस चंद्रशेखर ने 6 विकेट लेकर इंग्लैंड को 101 पर समेटा था। भारत ने 174 रन बनाकर जीत हासिल की थी।

1986 में चेतन शर्मा की रफ्तार ने ढाया था कहर

1983 का विश्व जीतने वाली कपिल देव की सेना ने धमाकेदार खेल दिखाते हुए इंग्लैंड में तीन मैचों की सीरीज में पहले दो मैच जीतकर सीरीज अपने नाम किया था। लॉड्स में चेतन शर्मा की धारदार गेंदबाजी के दम पर मेजबान को पहली पारी में 294 रन पर ढेर किया और दूसरी पारी में कप्तान कपिल देव के चार विकेट के दम पर 180 रन पर समेट दिया। भारत ने पहली पारी में 341 और दूसरी में जीत के 134 रन को 5 विकेट खोकर हासिल किया था।

भारत ने दूसरा टेस्ट और भी शानदार खेल दिखाया और 279 रन से मैच जीतकर सीरीज अपने नाम कर लिया। इंग्लैंड की टीम पहली पारी में 102 जबकि दूसरी में 128 रन ही बना पाई थी।

2002 में लीड्स टेस्ट में पारी से मिली यादगार जीत

भारतीय टीम को चार मैचों की सीरीज के पहले मैच में लॉड्स में 170 रन से हार मिली जबकि दूसरी टेस्ट ड्रॉ हुआ। लॉड्स में खेल गए तीसरे मैच में सचिन तेंदुलकर की 193 और राहुल द्रविड़ की 148 रन की पारी की बदौलत 628 रन का पहाड़ खड़ा किया। इंग्लैंड कुंबले और जहीर की गेंदबाजी के आगे पहली पारी में 273 और दूसरी में 309 रन ही बना पाई। भारत ने पारी और 46 रन से मैच जीता।

2007 में द्रविड़ की कप्तानी में मिली जीत

भारत ने तीन मैचों की सीरीज में नॉटिंघम में खेला दूसरा टेस्ट जीता और सीरीज को 1-0 से अपने नाम किया। पहली पारी में जहीर खान की शानदार गेंदबाजी के आगे महज 198 रन बना पाई। पहली पारी में भारत ने सचिन के 91, सौरव गांगुली के 79 और कप्तान द्रविड़ के 77 रन की बदौलत 481 रन बनाए। दूसरी पारी में जहीर ने 5 विकट झटके और इंग्लैंड 355 पर सिमटी । भारत को 73 रन का लक्ष्य मिला जिसे 3 विकेट खोकर टीम ने आसानी से हासिल कर लिया।

2014 में लॉड्स में मिली ऐतिहासिक जीत

भारत को 5 मैचों की इस सीरीज में 3-1 से हार मिली थी लेकिन लॉड्स में ईशांत शर्मा के झटके सात विकेट ने इंग्लैंड को 95 रन की शिकस्त दी थी। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने 295 रन बनाए जवाब में इंग्लैंड ने 319 रन का स्कोर खड़ा किया। दूसरी पारी में मुरली विजय के 95 और रविंद्र जडेजा के 68 रन की बदौलत 342 रन बनाए। ईशांत ने दूसरी पारी में 74 रन देकर सात विकेट निकाले और भारत को 95 रन की यादगार जीत मिली।