टीम इंडिया © AFP
टीम इंडिया © AFP

टीम इंडिया और उसके मैनेजमेंट के लिए हर दिन सौगात लेकर आ रहा है। एक ओर जहां टीम इंडिया के खिलाड़ियों की सैलरी दोगुनी हो गई है वहीं दूसरी ओर इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक टीम इंडिया के सहायक कोचों को उनकी सैलरी में 50 प्रतिशत की बढ़ोतरी दी जाएगी। इस तरह टीम इंडिया के बैटिंग कोच संजय बांगड़ और फील्डिंग कोच आर. श्रीधर की सैलरी करीब 15 लाख रुपए महीने पहुंच जाएगी। अभी तक बांगड़ और श्रीधर को 10 लाख रुपए प्रति महीने मिलते थे। यानि 10 महीने के 1 करोड़ रुपए जिसके अलावा 2 महीने का आईपीएल होता है उसमें उन्हें भुगतान नहीं दिया जाता है।

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि हाल ही में टीम इंडिया के साथ दो साल पूरे करने के बाद दोनों ने सैलरी बढ़ाने की मांग की थी। कोचों ने बोर्ड से सपोर्ट स्टाफ के लिए कॉन्ट्रेक्ट लाने को कहा था। हालांकि, इस दौरान कॉन्ट्रेक्ट को लेकर कोई बातचीत नहीं हुई थी। अंततः, प्रशासकों की समिती(सीओए) ने गुरुवार को बांगड़ और श्रीधर की सैलरी बढ़ाने का निर्णय लिया। पिछले महीने सपोर्ट स्टाफ ने 25 प्रतिशत बढ़ोतरी लेने से इंकार कर दिया था। उन्होंने कहा था कि पूर्व बीसीसीआई प्रशासन ने उन्हें 100 प्रतिशत बढ़ोतरी देने का वायदा किया था। [ये भी पढ़ें: जानें कितनी सैलरी पाते हैं भारतीय खिलाड़ी]

रिपोर्ट के मुताबिक, ये मामला फिर हेड कोच अनिल कुंबले ने अपने हाथ में ले लिया था। उनके हस्तक्षेप और बाद में सीओए से बातचीत के बाद ही 50 प्रतिशत बढ़ोतरी दी गई है। बुधवार को ही टीम इंडिया के खिलाड़ियों की भी वेतन में वृद्धि की गई है। रिपोर्ट में लिखा है, “सपोर्ट स्टाफ के लिए कोई कॉन्ट्रेक्ट नहीं है। उनकी सैलरी पिछले दो सालों से नहीं बढ़ाई गई थी। अगर वे खिलाड़ियों की सैलरी दुगुनी कर सकते हैं तो सीओए ने सोचा कि सपोर्ट स्टाफ को भी 50 प्रतिशत बढ़ोतरी मिलनी चाहिए।”

रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछले साल इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के दौरान बांगड़ और श्रीधर ने उस समय के सचिव अजय शिर्के और अध्यक्ष अनुराग ठाकुर के सामने अपना मुद्दा रखा था। दोनों ने इस पर ध्यान देने को लेकर बात कही थी। लेकिन अनुराग ठाकुर और शिर्के के पद से हटने के बाद ये मामला खटाई में पड़ गया था। अंततः अब सैलरी बढ़ गई है।