Ben Stokes does not need extra captaincy pressure, says Kevin Pieterson
बेन स्टोक्स (AFP)

पूर्व इंग्लिश कप्तान केविन पीटरसन नहीं चाहते कि जो रूट की गैरमौजूदगी में ऑलराउंडन बेन स्टोक्स वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज में इंग्लैंड टेस्ट टीम की अगुवाई करें। दरअसल इस पूर्व क्रिकेटर का मानना है कि कप्तानी की जिम्मेदारी दिए जाने से इस स्टार खिलाड़ी पर दबाव और बढ़ जाएगा।

पीटरसन का ये बयान उस खबर के बाद आया जिसके मुताबिक टेस्ट कप्तान रूट की पत्नी की डिलिवरी डेट जुलाई में है, जिस वजह से ये सीनियर खिलाड़ी वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज से नाम वापस ले सकता है। अगर रूट ऐसा करते हैं तो जाहिर तौर पर कप्तान की जिम्मेदारी उप कप्तान स्टोक्स पर ही आएगी, जिससे पीटरसन सहमत नहीं हैं।

इस पूर्व बल्लेबाज का कहना है कि रूट की गैरमौजूदगी में कप्तानी की जिम्मेदारी विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर को दी जा सकती है।

टॉकस्पोर्ट्स से बातचीत में उन्होंने कहा, “क्या मैं स्टोक्स को अपनी मौजूदा स्थिति से अलग देखना चाहूता हूं? शायद नहीं। मेरे हिसाब से जोस बटलर सही शख्स होगा। मनोरंजन करने वाले और टीम का भार उठाने वाले खिलाड़ी कभी सर्वश्रेष्ठ कप्तान नहीं बनते और उन्हें कभी-कभी अतिरिक्त दबाव के साथ संघर्ष करना पड़ता है।”

पीटरसन ने कहा कि कप्तानी ड्रेसिंग रूम में किसी खिलाड़ी की पहचान को बदल देती है। उन्होंने बताया कि थोड़े समय के लिए इंग्लैंड की कप्तानी के दौरान उन्हें भी इस पद से नफरत हो गई थी। उन्होंने कहा, “मैंने इससे संघर्ष किया, मुझे इससे बेहद नफरत थी और मैं बेकार था। आपको बदलना होता है और मैं ड्रेसिंग रूम के सम्मान को नियंत्रित नहीं कर सका।”

जुलाई में वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के इंग्लिश क्रिकेट सीजन की शुरुआत होगी। इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड की आगे की योजना पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और आयरलैंड की मेजबानी करने की है। हालांकि सभी मैच खाली स्टेडियम में खेले जाएंगे।

इस पर पीटरसन ने कहा, “मैं खिलाड़ी होने की बजाय ब्रॉडकॉस्टर की कुर्सी पर बैठना पसंद करूंगा क्योंकि रोमांचक माहौल को पसंद करने वाले को अपना माहौल खुद ही बनाना होगा और अपना खामोशी के बीच में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करनी होगी।”