India vs New Zealand Ajaz Patel 10 Wicket Haul: न्यूजीलैंड क्रिकेट में शानदार इतिहास रचने वाले भारतीय मूल के लेफ्टआर्म स्पिनर एजाज पटेल (Ajaz Patel) ने मुंबई टेस्ट के दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा यह उनके जीवन का सबसे खास लम्हा है और इसे वह ताउम्र याद रखेंगे. पटेल ने भारत के खिलाफ पहली पारी में सभी 10 विकेट चटकाकर न्यूजीलैंड के लिए नया कीर्तिमान बनाया है. 144 साल के टेस्ट इतिहास में ऐसा करने वाले वह दुनिया के तीसरे गेंदबाज बने हैं.

भारतीय मूल के इस स्पिनर के लिए मुंबई का वानखेड़े मैदान इसलिए भी खास बन गया है क्योंकि वह मुंबई में ही जन्में हैं. जब वह 8 साल के थे, तब उनका परिवार न्यूजीलैंड शिफ्ट हो गया और फिर एजाज ने वहीं से क्रिकेट खेलना शुरू किया. 33 वर्षीय पटेल टेस्ट इतिहास में जिम लेकर (1956) और (Anil Kumble) अनिल कुंबले (1999) के बाद एक पारी में 10 विकेट चटकाने वाले दुनिया के तीसरे गेंदबाज हैं.

एजाज ने दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, ‘व्यक्तिगत रूप से यह मेरी जिंदगी के क्रिकेट दिनों में सबसे शानदार दिनों में से एक होगा और यह शायद हमेशा रहेगा.’ उन्होंने कहा, ‘टीम के लिए हालांकि हमने खुद को काफी मुश्किल स्थिति में पहुंचा दिया है. हमें कल डटकर सामना करना होगा और जहां तक संभव हो, प्रयास करना होगा और देखना होगा कि हम मैच का रुख बदल सकते हैं या फिर कुछ विशेष कर सकते हैं.’

उन्हें अपनी उपलब्धि पर यकीन करने में अभी थोड़ा और समय लगेगा लेकिन इसे सहेजने से पहले ही भारतीय गेंदबाजों ने उनके बल्लेबाजी क्रम को झकझोर दिया. तो क्या अब तक इस पर यकीन हो गया है? उन्होंने मुस्कुराते हुए जवाब दिया, ‘नहीं, अभी नहीं.’

उन्होंने कहा, ‘जब मैं मैदान से बाहर आया तो चीजें काफी तेजी से हो गईं. इन चीजों पर काफी देर तक यकीन नहीं होता. यह मेरे लिए, मेरे परिवार और मेरी पत्नी के लिए शानदार है. आप बतौर क्रिकेटर काफी समय घर से बाहर बिताते हो और इस मौके के लिए मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं. यह मेरे लिए बहुत विशेष उपलब्धि है.’

कुंबले के ट्वीट से वह काफी खुश थे, उन्होंने कहा, ‘हां, मुझे उनके 10 विकेट लेना याद है. मैंने कई बार उस मैच की ‘हाइलाइटस’ देखी हैं. इस समूह का हिस्सा बनना शानदार है. उनका संदेश देखना शानदार था. उनके साथ इस उपलब्धि में जुड़कर भाग्यशाली महसूस कर रहा हूं.’

भारतीय पारी के किसी भी चरण में उनके दिमाग में 10 विकेट चटकाने की बात आई थी? तो उन्होंने कहा, ‘नहीं, नहीं. मैं जानता था कि इसके लिए काम करना होगा. मैं ‘ऑनर्स बोर्ड’ में आना चाहता था. लेकिन ऐसा होना विशेष था.’