इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान जो रूट (Joe Root) की पिछले एक-दो सीजन से दुनिया की सबसे बड़ी टी20 लीग IPL में खेलने की चर्चाएं हैं लेकिन 31 वर्षीय रूट ने एक बार फिर इस लीग से दूर रहने का फैसला किया है. रूट के इस बार शामिल होने की पूरी संभावनाएं थीं लेकिन इंग्लैंड की टीम ऑस्ट्रेलिया में जाकर एशेज में 4-0 से बुरी तरह पिट गई और अब इसके बाद इस खिलाड़ी ने खराब फॉर्म से जूझ रही अपनी टेस्ट टीम के प्रदर्शन में सुधार में सारी ऊर्जा झोंकने का फैसला किया है.

रूट ने 2018 की नीलामी में नहीं बिकने के बाद से आईपीएल का कोई सत्र नहीं खेला है. पिछले सप्ताह उन्होंने कहा था कि वह मेगा नीलामी में शामिल होने की सोच रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा था कि वह आईपीएल तभी खेलेंगे जब इसका असर उनके टेस्ट करियर पर नहीं हो.

एशेज सीरीज के 5वें मैच में हार के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा, ‘इस टीम में काफी सुधार की जरूरत है. इसके लिए मेरी सारी ऊर्जा चाहिए. मेरे लिए टेस्ट क्रिकेट सर्वोपरि है और उसके लिए मैं सब कुछ छोड़ सकता हूं.’

उन्होंने इसकी पुष्टि की कि आईपीएल नीलामी में शामिल होने का प्रस्ताव उन्होंने ठुकरा दिया है. आईपीएल में इस सत्र से 10 टीमें होंगी और मेगा नीलामी 12 और 13 फरवरी को बेंगलुरू में होगी.

वैसे भी इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) इस बार यह संकेत दिए हैं कि वह अब टेस्ट क्रिकेट के लिए अपनी टीम में सुधार लाने के मकसद से अपने खिलाड़ियों पर आईपीएल में खेलने पर कुछ पाबंदियां लगाएगा. ताकि खिलाड़ी न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज खेलने से पहले अपने देश में जारी काउंटी क्रिकेट में हिस्सा लें और खुद को लाल गेंद के फॉर्मेट के लिए बेहतर ढंग से तैयार कर सकें.