इंग्‍लैंड की टीम के पूर्व कप्‍तान नासिर हुसैन (Nasser Hussain) का मानना है कि टी20 विश्‍व कप 2021 (T20 World Cup 2021) में भारत की टीम खिताब जीतने की दावेदार है लेकिन वो विराट एंड कंपनी को इसके लिए प्रबल दावेदार नहीं मानते हैं. हुसैन ने कहा कि टी20 क्रिकेट काफी अनिश्चिताओं से भरा हुआ है. यहां कोई भी टीम किसी भी वक्‍त कमाल कर सकती है. भारत ने टी20 विश्‍व कप (T20 World Cup 2021) से पहले यूएई के मैदानों पर ही आईपीएल 2021 खेला है. ऐसे में भारत के धुरंधरों के बीच दुबई, शारजाह और अबुधाबी की पिचों का काफी अच्‍छा अनुभव है. टी20 विश्‍व कप से ठीक पहले भारतीय टीम ने यूएई में ही अपने दोनों अभ्‍यास मैचों में जीत दर्ज की है. अब 24 अक्‍टूबर को पाकिस्‍तान के खिलाफ मुकाबले के साथ भारत अपने अभियान की शुरुआत करेगा.

नासिर हुसैन (Nasser Hussain) ने ‘स्काई क्रिकेट’ से कहा, ‘‘ वे खिताब जीतने के दावेदार है. मैं उन्हें हालांकि प्रबल दावेदार नहीं मानूंगा क्योंकि यह प्रारूप अनिश्चितता वाला है. इस प्रारूप में किसी एक खिलाड़ी की 70 या 80 रन की पारी या महज तीन गेंदों में मैच का रुख पलट सकता है. इसलिए कोई भी नॉकआउट मैच में भारत को परेशान कर सकता है.’’

हुसैन ने हाल के आईसीसी प्रतियोगिताओं के नॉकआउट चरणों में भारत के खराब रिकॉर्ड का भी जिक्र किया. भारत ने अपना आखिरी आईसीसी खिताब 2013 में एमएस धोनी के नेतृत्व में चैम्पियंस ट्रॉफी फाइनल में इंग्लैंड को हराकर हासिल किया था.

भारतीय टीम इसके बाद  2015 विश्व कप, 2016 टी 20 विश्व कप और 2019 विश्व कप में सेमीफाइनल से बाहर हो गयी थी, जबकि 2017 चैंपियंस ट्रॉफी और इस साल की शुरुआत में  विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में उपविजेता रही है.

नासिर हुसैन (Nasser Hussain) ने कहा , ‘‘भारत का आईसीसी टूर्नामेंटों में पिछले कुछ वर्षों में  रिकॉर्ड अच्छा नहीं है और यह कुछ ऐसा है जिससे उन्हें निपटना होगा. जब वे नॉकआउट में खेलते है तो भारतीय दर्शकों और प्रशंसकों की उम्मीदों का दबाव और बढ़ जाता है.’’

हुसैन (Nasser Hussain) को लगता है कि नॉकआउट मैच में शीर्ष क्रम के विफल होने पर भारत के पास वैकल्पिक योजना नहीं है. ‘‘जब वे अहम मोड़ पर पहुंचते हैं तो उनके पास वैकल्पिक योजना की कमी होती है. आप पिछले विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए मैच को  देख सकते हैं, अचानक वह मैच कम स्कोर वाला हो जाता है  और उनके पास कोई वैकल्पिक योजना नहीं थी. वे न्यूजीलैंड की एक बहुत अच्छी टीम से हार जाते हैं . ऐसे में यह उनके लिए एक मुद्दा होगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘भारत के साथ एक समस्या यह भी है कि शीर्ष क्रम में रोहित शर्मा, विराट कोहली और लोकेश राहुल जैसे बल्लेबाजों के होने से मध्यक्रम को ज्यादा मौके नहीं मिलते और नॉकआउट मैचों में अगर  शीर्ष क्रम बिखर जाता है तो टीम परेशानी में आ जाती है.’’