T20 World Cup 2021: टी20 विश्व कप-2021 का समापन हो चुका है. ऑस्ट्रेलियाई टीम ने न्यूजीलैंड (NZ vs AUS Final) को फाइनल मुकाबले में मात देकर ट्रॉफी अपने नाम कर ली है. इस टूर्नामेंट टॉस की अहम भूमिका रही है. टूर्नामेंट में खेले गए 45 मैचों में से 29 में लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम विजयी हुई है. सेमीफाइनल और फाइनल दोनों पक्षों ने दूसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए जीते.

दरअसल टी-20 वर्ल्ड कप में ‘टॉस बनी बॉस’ एक बड़ा मुद्दा बना रहा और खेल समीक्षक के अलावा प्रशंसक भी इस बात पर जोर देते दिखे कि जो टीम टॉस जीतेगी, वह निश्चित तौर पर पहले क्षेत्ररक्षण चुनेगी, क्योंकि बाद में ओस गिरने से बॉलिंग करना मुश्किल हो रहा था. सुपर-12 राउंड में भी अधिकतर मैचों में देखने को मिला कि जो टीम टॉस की बॉस बनी, उसकी जीत तय हुई.

इस पर गावस्कर ने कहा कि यह आईसीसी के लिए एक समान खेल मैदान सुनिश्चित करने के लिए एक मुद्दा है. गावस्कर ने कहा, “कमेंट्री करने वाले कह रहे थे कि ओस का कोई खास प्रभाव नहीं है, लेकिन मुझे ऐसा नहीं लगता, क्योंकि पिछले गेम में भी ऐसा हुआ था और इस बारे में कुछ करने की जरूरत है. लेकिन आप कह सकते हैं जब ग्रुप उसी समय पर खेले गए थे तो नॉकआउट मैचों का टाइम बदलने का क्या मतलब है.”

गावस्कर का कहना है कि यह आईसीसी क्रिकेट कमेटी के लिए एक मुद्दा रहेगा, जिसके उन्हें ठीक करना होगा ताकि मैदान में उतरने वाली दोनों टीमों के लिए खेल बराबरी का रहे. स्पोर्ट्स टुडे ने गावस्कर के हवाले से कहा, “मुझे लगता है कि आईसीसी क्रिकेट समिति के लिए यह सुनिश्चित करने के लिए कुछ है कि दोनों टीमों के लिए एक समान खेल का मैदान हो.”