पूर्व इंग्लिश बल्लेबाज इयान बेल (Ian Bell) ने साल 2011 में भारत के खिलाफ हुए टेस्ट मैच के दौरान अपने विकेट को लेकर खड़े हुए विवाद पर आखिरकार माफी मांग ली है।

दरअसल भारत और इंग्लैंड के बीच नॉटिंघम में खेले गए टेस्ट मैच के तीसरे दिन इंग्लैंड के इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) ने लेग साइड की तरफ शॉट लगाया था। मोर्गन के साथ नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े बेल को लगा कि गेंद बाउंड्री पार कर गई है लेकिन वो ये नहीं देख पाए कि प्रवीण कुमार ने डाइव लगाकर चौका रोक दिया था। दोनों बल्लेबाज ब्रेक लेकर पवेलियन की तरफ चलने लगे।

इस बीच कुमार ने गेंद विकेटकीपर कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की तरफ फेंकी जिन्होंने अभिनव मुकुंद को गेंद दी और उन्होंने बेल को रन आउट कर दिया। बेल उस समय 137 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे थे, जब अंपायर ने उन्हें रन आउट करार किया।

इसके बावजूद बेल ने खुद को आउट मानने से साफ इंकार कर दिया था। वहीं स्टेडियम में मौजूद दर्शकों ने भी इस फैसले पर नाराजगी जाहिर की थी। वहीं जब ब्रेक के बाद बेल फिर बल्लेबाजी करने उतरे तो भारतीय टीम हैरान थी। लेकिन इंग्लिश बल्लेबाज के वापस लौटने को तैयार ना होने पर कप्तान धोनी ने अपनी अपील वापस ले ली थी।

पिछले साल आईसीसी ने इस फैसले के लिए पूर्व भारतीय कप्तान धोनी को दशक का खेल भावना खिताब भी दिया था।

ग्रेड क्रिकेटर यू-ट्यूब चैनल से बातचीत में उस मैच को याद करते हुए बेल ने माना कि वो अंपायर से बात किए बिना वापस आ गए थे। उन्होंने कहा, “हां, ये दिलचस्प है। जब मैं उसे फिर से याद करता हूं तो मुझे लगता कि शायद मुझे भूख लग रही थी इसलिए मैं पवेलियन की तरफ दौड़ा था जब मुझे लगा कि गेंद चौके के लिए गई है और मैं सुरक्षित हूं।”

बेल ने कहा, “लेकिन हां, धोनी को उस मैच के लिए दशक का खेल भावना अवार्ड मिला था। लेकिन हां वो मेरे गलती थी, मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था।”