former india cricketer venkatesh prasad shows his disappointment on hanging of nupur sharmas effigy

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने भारतीय जनता पार्टी से निलंबित नेता नुपुर शर्मा के पुतले को फांसी पर लटकाए जाने पर निराशा व्यक्त की है। खबर के मुताबिक कर्नाटक के बेलगावी में नुपुर का पुतला लटकाया गया। पैंगम्बर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद नुपुर को पार्टी से निकाल दिया गया था। प्रसाद ने कहा कि उन्हें नहीं उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि इस तरह का कुछ 21वीं सदी में हो सकता है। उन्होंने सभी से अपील की कि वे रजनीति को छोड़ दें और बुद्धि से काम लें।

प्रसाद ने ट्वीट किया, ‘यह कर्नाटक में नुपुर शर्मा का पुतला लटक रहा है। सही मायनों में यकीन नहीं हो रहा कि 21वीं सदी में कुछ ऐसा हो सकता है। मैं सबसे अपील करता हूं कि इस मसले पर राजनीति न करें और बुद्धि से काम लें। यह तो हद ही हो गई।’

इसके बाद उन्हें कई लोगों ने ट्वीट कर पूछा कि वह आखिर इसी मुद्दे के बारे में बात क्यों कर रहे हैं और बाकी चीजों के बारे में क्यों कुछ नहीं बोल रहे हैं। ट्वीट्स पर जवाब देते हुए पूर्व क्रिकेटर ने कहा, ‘इस ट्वीट के बारे में जो कहा जा रहा है उस पर यकीन नहीं हो रहा। न्यूज चैनल और वे लोग जो इसे ठीक ठहरा रहे हैं और वे लोग जो इस चर्चा में शामिल हैं वे इस शर्मनाक स्थिति में अहम भूमिका निभा रहे हैं। यह सिर्फ एक पुतले की बात नहीं है ल्कि बिना किसी शब्दों के एक से अधिक लोगों के लिए खतरा है।’

प्रसाद ने आगे कहा, ‘दो गलत एक सही नहीं बना सकते। मैं किसी ऐसे देश को नहीं जानता जहां बहुसंख्यक आबादी इतना असुरक्षित महसूस करती हो। हर किसी की रक्षा की जानी चाहिए लेकिन प्रोपेगैंडा फैलान के लिए ब्रेनवॉश किए जाने को रोका जाना चाहिए। सहिष्णुता दोतरफा होती है।’