मानसिक रूप से थकावट के चलते क्रिकेट से ब्रेक लेने के कारण सुर्खियों में आए ऑस्‍ट्रेलिया के ऑलराउंडर ग्‍लेन मैक्‍सवेल (Glenn Maxwell) ने बुधवार को एक नया खुलाया किया. उन्‍होंने बताया कि विश्‍व कप 2019 के दौरान वो चाहते थे कि क्रिकेट से ब्रेक लेने के लिए उनका हाथ टूट जाए.

ऑस्‍ट्रेलिया के एक पॉडकास्‍ट से बातचीत में मैक्‍सवेल ने बताया, “विश्‍व कप के दौरान साउथ अफ्रीका के खिलाफ मैच से पहले मैं और शॉन मार्श दोनों ही चोटिल हो गए थे. दोनों एक साथ चोट दिखाने के लिए अस्‍पताल गए. मार्श को अनफिट करार देते हुए आगे नहीं खेलने के लिए कहा गया.”

ग्‍लेन मैक्‍सवेल ने बताया, “उस वक्‍त मैं लगातार खेलते हुए काफी बुरी तरह से थक चुका था. मैं चाहता था कि किसी तरह से मुझे आराम मिले. मार्श के बाहर होने के बाद मैं चाहता था कि काश उसकी चोट मुझे लगी होती और टीम से बाहर होकर मैं आराम कर रहा होता.”

कंगारू बल्‍लेबाज ने बताया कि उन दिनों वो काफी चिड़चिड़े हो गए थे और ज्‍यादा किसी से बात भी नहीं करते थे. “मेरी इस बीमारी को सबसे पहले मंगेतर विनी ने पहचाना. उसने ही मुझे इससे बाहर निकलने में मदद की.”

वर्ल्‍ड कप के बाद मैक्‍सवेल ने क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया से मानसिक थकावट के बारे में बात की और अनिश्चित काल के लिए ब्रेक लेने की इच्‍छा जताई. क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने भी साथ देते हुए मैक्‍सवेल को ऐसा करने की इजाजत दे दी. मैक्‍सवेल की इस तरह मानसिक थकावट का हवाला देते हुए ब्रेक लेने की क्रिकेट जगत में काफी तारीफ हुई. विराट कोहली ने उनके इस कदम की प्रशंसा भी की थी.