अपने प्रशंसकों के बीच ‘भगवान’ का दर्जा रखने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर शुक्रवार को 47 वर्ष के हो गए। भारत की ओर से साल 1989 में अपने इंटरनेशनल क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले इस दिग्गज खिलाड़ी ने भले ही अपने इस जन्मदिन को बड़े स्तर पर नहीं मनाने का फैसला किया हो बावजूद इसके सोशल मीडिया पर उन्हें बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।

कोविड-19 के खिलाफ खिलाफ छिड़ी जंग में अहम योगदान देने वाले डॉक्टर, नर्स, पुलिसकर्मियों और सफाईकर्मियों के सम्मान में तेंदुलकर ने अपना 47वां जन्मदिन नहीं मनाने का फैसला किया है.

14 साल के रहाणे को सचिन ने बुलाया था अपने घर, कर बैठे थे ये काम

बीसीसीआई ने सचिन की उस पारी का वीडियो शेयर किया है जो उन्होंने साल 2008 में इंग्लैंड के खिलाफ खेली थी. 26/11 मुंबई हमले के पीड़ितों को श्रद्धांजलि देने के लिए सचिन ने 41वां टेस्ट शतक लगया था.

तेंदुलकर को सम्मान देते हुए आईसीसी ने ट्विटर पर लिखा है, ‘सालगिरह मुबारक सचिन, इतिहास के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज.”

भारतीय क्रिकेट टीम के हेड कोच रवि शास्त्री ने ट्वीट किया, ‘हैप्पी बर्थडे, बॉसमैन. जो खेल की विरासत आपने पीछे छोड़ी है वो अमर है, भगवान आपका भला करें चैंपियन.’

खाली स्टेडियम में मैच कराने के विचार से सहमत नहीं सचिन तेंदुलकर, बताई ये वजह

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली नेइंस्टाग्राम पर लिखा, ‘हैप्पी बर्थडे उस इंसान को खेल के प्रति जिनके जुनून ने कई लोगों को प्रेरित किया। पाजी आपका साल शानदार रहे.’

तेंदुलकर के सलामी जोड़ीदार रहे वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट किया, ‘ यह सच है कि महान व्यक्ति बल्लेबाजी करते समय भारत में समय रोक सकता था. लेकिन सबसे बड़ी प्रेरणा सचिन पाजी का करियर इन दो तस्वीरों में शामिल है. खासतौर पर कठिन समय में याद रखने की बहुत जरूरत है कि विपत्ति के बाद जीत आती है.’

हाल में इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने वाले स्पिन गेंदबाज प्रज्ञान ओझा ने भी तेंदुलकर को विश करते हुए उनके अच्छेे स्वास्थ्य की कामना की है.

तेंदुलकर ने भारत की ओर से 200 टेस्ट, 463 वनडे और 01 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेले। उनके नाम टेस्ट और वनडे में सर्वाधिक क्रमश: 51 और 49 शतक दर्ज हैं.