ICC Cricket World Cup 2019: This has been a four-year journey, says Eoin Morgan
इंग्लैंड टीम (IANS)

आईसीसी विश्व कप 2015 के ग्रुप स्टेज से बाहर होने के चार साल बाद इंग्लैंड की पुरुष टीम ने आखिरकार पहला विश्व कप खिताब जीता है। लॉर्ड्स में खेले गए ऐतिहासिक फाइनल मैच में सुपर ओवर टाय होने के बाद बाउंड्री के आधार पर मेजबान को चैंपियन घोषित किया गया। इंग्लैंड को विश्व विजेता बनाने वाले कप्तान इयोन मोर्गन ने इस जीत को पिछले चार सालों की मेहनत का नतीजा बताया।

मैच के बाद प्रेसेंटेशन के दौरान इंग्लिश कप्तान ने कहा, “ये पिछले चार सालों का सफर रहा है। हमने इन चार सालों में बहुत सुधार किया है, खासकर कि पिछले दो सालों में। हमें इस तरह की विकेट पर खेलने में मुश्किल होती है। आखिर में जीत की रेखा पार कर पाना हमारे लिए सबसे बड़ी चीज थी।”

मोर्गन ने अर्धशतकीय पारियां खेलने वाले बेन स्टोक्स और जोस बटलर को जीत का श्रेय दिया। कप्तान ने कहा, “ये एक कठिन विकेट था जहां सभी को स्कोर करना मुश्किल लग रहा था। हमने बहुत सारे विकेट गंवाए। बटलर और स्टोक्स ने एक साझेदारी बनाई और मुझे लगा कि वो हमें आखिर तक ले जाएंगे, और उन्होंने वही किया।”

ICC विश्व कप: केन विलियमसन को मिला मैन ऑफ द टूर्नामेंट का खिता

इंग्लिश कप्तान ने बताया कि सुपर ओवर के दौरान वो इतने ज्यादा परेशान हो रहे थे कि साथी खिलाड़ी और सपोर्ट स्टाफ को उन्हें शांत कराना पड़ा। उन्होंने कहा, “लियाम प्लंकेट मुझे शांत करने की कोशिश कर रहे थे जो एक अच्छा संकेत नहीं है। हम यो-यो की तरह ऊपर और नीचे जा रहे थे। सपोर्ट स्टाफ और खिलाड़ियों में से कुछ जो कि ना केवल हमारी टीम में सर्वश्रेष्ठ हैं, बल्कि दुनिया में सर्वश्रेष्ठ हैं, उन्होंने वास्तव में शांत रहने में काफी मदद की। मैंने स्टोक्स को खेलने की पूरी छूट दी, जब तक कि खतरा ज्यादा ना हो। सुपर ओवर के लिए गए दोनों लड़कों को पूरा श्रेय जाता है।”

पहले पारी और फिर सुपर ओवर में भी बराबर रन बनाने के बावजूद फाइनल मैच हारी न्यूजीलैंड टीम की मोर्गन ने काफी तारीफ की। उन्होंने कहा, “मैच में बहुत कुछ हुआ, मैं केन और उनकी टीम की तारीफ करना चाहूंगा। उन्होंने जिस तरह से मुकाबला किया वो प्रेरित करने वाला है। उन्होंने जिस तरह का उदाहरण पेश किया, वो उनके और उनकी टीम के लिए बेहद सराहनीय है। ये एक बहुत मुश्किल खेल था।”